असम सरकार ने की स्कूल कॉलेजों में निःशुल्क एडमिशन की घोषणा, अभिभावकों को राहत

कोरोना महज़ महामारी के रूप में नहीं उबरा है बल्कि इसने लोगों को लभगभ बर्बादी के कगार पर पहुंचा दिया है । इस काल में देश में करोड़ों लोगों की नौकरियां जा चुकी है. यही नहीं खुद का कारोबार करने वाले भी कोरोना की मार से खुद को अछूता नहीं रख पाए हैं ।
अब ऐसे में उन लोगों के लिए सबसे ज्यादा मुश्किल पैदा हो गई है जिनके बच्चे स्कूलों-कॉलेज या विश्वविद्यालयों में पढ़ते हैं या इस साल दाखिला लेना जा रहे हैं। पैसों की तंगी के चलते उन्हें स्कूल की फीस और एडमिशन लेने में तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इस दुःख की घड़ी में असम सरकार किसी फ़रिश्ते की तरह अपने लोगो के सामने आ खड़ी हुई है।

आपको बता दें कि असम के शिक्षा मंत्री हेमंत बिस्व सरमा ने राज्य के सभी विश्वविद्यालयों, कॉलेजों और उच्चतर माध्यमिक विद्यालयों में वर्तमान शैक्षिणिक वर्ष में निशुल्क एडमिशन देने की घोषणा की है। जिससे किसी की आगे की पढ़ाई प्रभावित न हो सके। शिक्षा मंत्री हेमंत बिस्व सरमा का कहना है कि कोरोना के कारण लागू लॉकडाउन हुए छात्रों के अभिभावकों पर कोई अतिरिक्त बोझ ना पड़े इसलिए ये फैसला लिया गया है कि छात्रों से कोई अतिरिक्त शुल्क ना लिया जाए।

सरकार के इस फैसले से ना सिर्फ़ अभिभावक राहत में है बल्कि बच्चों में भी ख़ुशी व उत्साह है। इस फैसले से ना उनकी पढ़ाई में बाधा आएगी और न उनका साल बर्बाद होगा ।

आपको यह भी बता दे कि बता दें कि असम बोर्ड का दसवीं का परिणाम दो दिन पहले ही जारि किया गया था. दसवीं के परिणाम जारी होने के बाद शिक्षा मंत्री ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि, “मेडिकल, इंजीनियरिंग और पॉलिटेक्निक के छात्रों सहित उच्च माध्यमिक से स्नातकोत्तर स्तर तक के छात्रों को सभी संस्थानों में निशुल्क प्रवेश दिया जाएगा.”

इसके अलावा असम के सभी संस्थानों के प्रोस्पेक्टस और प्रवेश पत्र भी ऑनलाइन निशुल्क उपलब्ध कराए जाएंगे। यही नहीं छात्रों की सहूलियत के लिए शिक्षा विभाग की ओर से छात्रावास में रहने वाले छात्रों को मेस शुल्क के भुगतान के लिए 1,000 रुपये मासिक दिया जाएगा।

ऐसी मुश्किल की घड़ी में जहाँ लोगों को एकदुसरे के साथ खड़ा होने की जरूरत है, वहीं कुछ लोग मौके का फायदा उठा कर ख़ुद की जेबें भरने में कोई कसर नहीं छोड़ रहें ऐसे में सरकार के द्वारा लिया गया यह फैसला बेहद ही सकारत्मक है और हम इसकी तहे दिल से स्वागत करते हैं।।

नहीं भा रही ड्रैगन को भारत की मीडिया, ताइवान से लगातार ख़राब हो रहे रिश्ते

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की तबीयत खराब, दिखे कोरोना के लक्षण

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply