जुर्म

उन्नाव रेप केस से जुड़ी ये बातें आपको जरूर जाननी चाहिए

एक सत्ताधारी पार्टी का दायित्व होता है कि उसकी जिस राज्य में भी सत्ता हो वहां की जनता का खास ख्याल रखे और वहां की होने वाली घटनाओं पर वो तुरंत एक्शन ले लेकिन उत्तर प्रदेश के योगी सरकार के शासनकाल मे ठीक इसके विपरीत हो रहा है आम जनता को छोड़िए जब इनके विधायक ही घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं तो फिर ये यहां के जनता का ख्याल कैसे रखेंगे । इनके विधायक ही जब रेप नहीं गैंगरेप कर रहे हैं तो फिर यहां की जनता, यहां की बेटियां सुरक्षित कैसे हो सकती है ।

एक तरफ सरकार बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ का नारा देती है और दूसरी तरफ गैंगरेप के आरोपी बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को सरकार उस वक़्त तक बचाती रही जब तक यह मामला उसके हाथ में था लेकिन जब मामला तूल पकड़ा, मीडया में दिखया जाने लगा और इसपर राजीनितिक पार्टियां जब पूरी तरह एक्टिव हो गई तब जा कर कुलदीप सिंह सेंगर ने खुद को पुलिस के हवाले किया । मज़े की बात तो ये है कि हिरासत में आने के बाद भी पुलिस उन्हीं की तरफदारी कर रही है ।

SIT की जांच की रिपोर्ट के मुताबिक यह मामला 4 जून 2017 का है पीड़िता का कहना है कि इसी दिन यानी 4 जून को बीजेपी विधायक सहित 8 लोगों ने उसके साथ गैंगरेप किया । उसके बाद 11 जून 2017 को पीड़िता अपने घर से गायब हो जाती है जिसके बाद 12 जून 2017 को उसकी माँ थाने में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाती है जिसके कुछ दिनों बाद पुलिस औरेय से लड़की को बरामद करती है और कोर्ट में धारा 164 के तहत उसका बयान दर्ज किया जाता है फिर 1 अगस्त 2017 को उन्नाव पुलिस कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करने के बाद इस मामले में दो लोगों को गिरफ्तार करती है । आपको बता दें की अब तक का मामला गुमशुदगी का चल रहा था ।

लेकिन रेप का खुलासा तब होता है जब उसके चाचा उसे दिल्ली ले कर जाते हैं और इस मामले को लड़की अपने चाची के साथ साझा करती है जिसके बाद लड़की वापस उन्नाव पहुंच कर इस मामले के खिलाफ थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने पहुँचती है लेकिन अब तक पीड़िता ने आरोपी का नाम नहीं लिया था । उसके कुछ महीनों बाद यानी 3 अप्रैल 2018 को पीड़िता के पिता के साथ मारपीट की जाती है ।

12 अप्रैल 2014 को यह मामला खुल कर सामने आता है इसमें बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर का और उनके भाई अतुल सिंह सेंगर के खिलाफ उन्नाव के माखी थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 363, 366, 376, 506 के तहत केस दर्ज किया जाता है और विधायक के भाई अतुल सिंह सेंगर को गिरफ्तार किया जाता है ।

इसके बाद जब थाने में पीड़िता के पिता इंसाफ मांगने जाते हैं तब उनके साथ मारपीट की जाती है जिसके बाद उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती कराया जाता है जहां डॉक्टर और पुलिस दोनों ही उनका मजाक उड़ाती है लेकिन उसके सुबह पता चलता है कि हॉस्पिटल में ही उनकी मौत पेट दर्द और खून की उल्टी करने के कारण हो गई जिसके बाद पुलिस पर लापरवाही का आरोप लगता है और यह मामला CBI के हाथों में सौपी जाती है । जिसके बाद पता चलता है कि पीड़िता के पिता की मौत ठीक ईलाज तरीके से नहीं होने के कारण हो गई । अब इस मामले में कारवाई करते हुए जिला अस्पताल के CMS सहित अस्पताल के 3 डॉक्टरों के खिलाफ विभागीय कारवाई की गई है ।

साथ ही रेप और हत्या के आरोप झेल रहे कुलदीप सिंह सेंगेर पर CBI ने अपना सिकंजा कसना शुरू कर दिया है . CBI ने विधायक के तरफदारी और जांच ठीक तरीके नहीं करने के जुर्म में मखनी थाने के तत्कालीन SHO केपी सिंह के साथ साथ 6 अन्य पुलिस कर्मी को गिरफ्तार किया है . तो वही कोर्ट का कहना है की आरोपी विधायक को गिरफ्तार किया जाना चाहिए और 2 मई तक इसकी प्रोग्रेस रिपोर्ट सौपने की कोर्ट ने हिदायत दी है ।

कोर्ट के हिदयात के बाद बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगेर को CBI ने एरेस्ट कर लिया है आपको बता दें की विधायक कुलदीप सिंह सेंगेर की गिरफ्तारी इलहाबाद हाईकोर्ट के फैसला आने के बाद हुई है । सेंगेर को सुबह के 4:30 बजे हीं हिरासत में ले लिया गया था लेकिन अब उन्हें गिरफ्तार कर पूछ-ताछ की जा रही है ।

यह भी पढ़ें

बातें मत हांकिए अपनी सोंच बदलिए साहब

 

837 total views, 2 views today

Facebook Comments

One thought on “उन्नाव रेप केस से जुड़ी ये बातें आपको जरूर जाननी चाहिए”

Leave a Reply