कैसे हुई भारत में सम्प्रदायवाद की शुरुआत, क्या है इसका इतिहास ? सम्प्रदाय
इतिहास के पन्नों से

कैसे हुई भारत में सम्प्रदायवाद की शुरुआत, क्या है इसका इतिहास ?

“सम्प्रदाय” ये शब्द पढ़ने और सुनने में जितना  सामान्य सा लगता है इसके परिणाम उतने ही भयावह हैं और भारत जैसे देश मे तो इसकी महत्ता अपने चरम पर होती है लेकिन एक वक्त था जब भारत में यह शब्द था ही नही या यूं कहें कि इस शब्द की ज़रूरत ही नही थी । इसका कारण था भारत मे हिन्दू-मुस्लिमों की एकता जो मिसाल के […]

332 total views, 1 views today

इतिहास के पन्नों से राजनीति

नहीं रहे दिल्ली में बीजेपी की जड़ें जमानें वाले मदनलाल खुराना!

भारतीय जनता पार्टी और संघ परिवार का एक जाना पहचाना चेहरा आज सदा के लिए संसार को अलविदा कह गया. हम बात कर रहे हैं दिल्ली के मुख्यमंत्री रहे मदनलाल खुराना की. 82 वर्षीय खुराना,  27 अक्टूबर की रात 11:00 बजे सदा के लिए इस दुनिया से रूखसत हो गये. इस बात की जानकारी उनके […]

919 total views, 1 views today

जयंती विशेष: पंडित नेहरू को भी संसद में खरी खोटी सुनानें वाले राष्ट्रकवि दिनकर जैसा कोई नहीं!
इतिहास के पन्नों से

पंडित नेहरू को भी संसद में खरी खोटी सुनानें वाले राष्ट्रकवि दिनकर जैसा कोई नहीं!

हिंदी भाषा के कवियों की गिनती कम नहीं रही है लेकिन ऐसे भी कवि नहीं हुए जो राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की बराबरी कर लें. आजकल के कवि जब एक पक्षीय होकर लेखन कार्य करते हैं, उन्हें इस बात की चिंता सताते रहती है कि हमें अमुक को खुश करना है तो उसको ध्यान में […]

1,080 total views, 3 views today

वो 5 महिलाएं जिनके बेहद करीब थे महात्मा गांधी, एक को बताते थे अपनी आध्यत्मिक पत्नी
इतिहास के पन्नों से

वो 5 महिलाएं जिनके बेहद करीब थे महात्मा गांधी, एक को बताते थे अपनी आध्यत्मिक पत्नी

महात्मा गांधी एक ऐसे व्यक्ति थे जो शायद ही कभी अकेले रहे हों । अगर उनकी जीवन काल के उपर लिखी गई पुस्तकों को खंगाला जाये तो ये पता चलता है कि महात्मा गांधी के आसपास हमेशा कुछ लोग ज़रूर रहते थे चाहें वो आम आदमी हो या फिर राजनीति के मोहरे । कहा जाता […]

1,382 total views, 1 views today

'कोहिनूर' को पाने के लिए रंजीत सिंह ने इस शासक को उसी के किले में कर लिया था कैद
इतिहास के पन्नों से

'कोहिनूर' को पाने के लिए रंजीत सिंह ने इस शासक को उसी के किले में कर लिया था कैद

इतिहास के पन्नो में अपना खास स्थान रखने वाला इस कोहिनूर हीरे को हर कोई अपने मुकुट या फिर अपने दरबार में रख कर उसकी खूबसूरती को बढ़ाना चाहता था और ऐसा मौका रंजीत सिंह के पास चल कर खुद आया था । अब तक तो उन्होंने केवल इस हीरे का नाम सुना था लेकिन […]

1,078 total views, no views today

अगर प्लासी का युद्ध सिराजुद्दौला जीत गया होता तो भारत का इतिहास कुछ और होता
इतिहास के पन्नों से

अगर प्लासी का युद्ध सिराजुद्दौला जीत गया होता तो भारत का इतिहास कुछ और होता

कहा जाता है कि अगर प्लासी का युद्ध सिराजुद्दौला जीत गया होता तो यहीं से अंग्रेज वापस चले गये होते इसके साथ ही भारत में उनके विस्तार के रास्ते भी बंद हो जाते और हिन्दुस्तान का इतिहास बदल गया होता लेकिन सिराजूद्दौला का युद्ध जीतना मुश्किल था क्योंकि नवाब (सिराजुद्दौला) उस समय अपने ही घर […]

1,774 total views, 1 views today

इतिहास के पन्नों से

मेजर सोमनाथ शर्मा ! शौर्य और पराक्रम का एक अनोखा संगम

आज कश्मीर का जो हिस्सा भारत के पास है, उसका श्रेय जिन वीरों को जाता है, उनमें से मेजर सोमनाथ शर्मा का नाम अग्रणी है । 31 जनवरी, 1923 को ग्राम डाढ (जिला धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश) में मेजर जनरल अमरनाथ शर्मा के घर में सोमनाथ का जन्म हुआ। सैनिक परिवार में जन्म लेने के कारण […]

2,913 total views, 2 views today

इतिहास के पन्नों से

प्राणसुख यादव: एक महान योद्धा जिसे हम भुल गए

यादव कूल ने हमेशा से भारत की भूमि की रक्षा की है । इनके शौर्य,अनुशासन,और कर्तव्य निर्वहन की अद्वितीय क्षमता ने हमारे समाज को हमेशा ही जगाए रखा है । इसी कूल में जन्म हुआ एक ऐसे विलक्षण प्रतिभा का जिनमें साहस और अपनी मिट्टी से प्यार कुट कुटकर भरा हुआ था। 6 फुट के […]

4,940 total views, no views today

इतिहास के पन्नों से राजनीति

जब जनसंघ ने कांग्रेस से हिंदूवादी पार्टी होने का तमगा छीन लिया था

कांग्रेस के इतिहास को अगर खंगाला जाए तो पता चलता है की कोंग्रेस अपने जन्म  से हिन्दू समर्थक होने का तमगा  ले कर  घूमती  रही थी  क्योंकि हिन्दू समर्थक होने के कारण ही इस पार्टी ने बहुत कुछ खो दिया, मोहम्मद अली जिन्ना जैसा नेता इस पार्टी का धुरविरोधी बन गया जो कभी कदम से […]

3,826 total views, 3 views today

इतिहास के पन्नों से जरा हटके राजनीति

क्या है आरक्षण का इतिहास, देश में पहली बार कब लागु हुआ था आरक्षण

भारत  एक ऐसा देश है जहां की राजनीति जातीवाद और आरक्षण से शुरू होती है और उसी के गलीयारे मे  दम भी तोड़  देती है । पार्टी कोई भी हो उसका चुनावी मुद्दा मात्र जातीवाद और आरक्षण से ही शुरू होती है और तमाम चुनावी वादे भी कहीं न कहीं इसी के परिधी मे घुमती […]

18,818 total views, 4 views today