इतिहास के पन्नों से

मेजर सोमनाथ शर्मा ! शौर्य और पराक्रम का एक अनोखा संगम

आज कश्मीर का जो हिस्सा भारत के पास है, उसका श्रेय जिन वीरों को जाता है, उनमें से मेजर सोमनाथ शर्मा का नाम अग्रणी है । 31 जनवरी, 1923 को ग्राम डाढ (जिला धर्मशाला, हिमाचल प्रदेश) में मेजर जनरल अमरनाथ शर्मा के घर में सोमनाथ का जन्म हुआ। सैनिक परिवार में जन्म लेने के कारण […]

इतिहास के पन्नों से

प्राणसुख यादव: एक महान योद्धा जिसे हम भुल गए

यादव कूल ने हमेशा से भारत की भूमि की रक्षा की है । इनके शौर्य,अनुशासन,और कर्तव्य निर्वहन की अद्वितीय क्षमता ने हमारे समाज को हमेशा ही जगाए रखा है । इसी कूल में जन्म हुआ एक ऐसे विलक्षण प्रतिभा का जिनमें साहस और अपनी मिट्टी से प्यार कुट कुटकर भरा हुआ था। 6 फुट के […]

इतिहास के पन्नों से राजनीति

जब जनसंघ ने कांग्रेस से हिंदूवादी पार्टी होने का तमगा छीन लिया था

कांग्रेस के इतिहास को अगर खंगाला जाए तो पता चलता है की कोंग्रेस अपने जन्म  से हिन्दू समर्थक होने का तमगा  ले कर  घूमती  रही थी  क्योंकि हिन्दू समर्थक होने के कारण ही इस पार्टी ने बहुत कुछ खो दिया, मोहम्मद अली जिन्ना जैसा नेता इस पार्टी का धुरविरोधी बन गया जो कभी कदम से […]

इतिहास के पन्नों से जरा हटके राजनीति

क्या है आरक्षण का इतिहास, देश में पहली बार कब लागु हुआ था आरक्षण

भारत  एक ऐसा देश है जहां की राजनीति जातीवाद और आरक्षण से शुरू होती है और उसी के गलीयारे मे  दम भी तोड़  देती है । पार्टी कोई भी हो उसका चुनावी मुद्दा मात्र जातीवाद और आरक्षण से ही शुरू होती है और तमाम चुनावी वादे भी कहीं न कहीं इसी के परिधी मे घुमती […]

इतिहास के पन्नों से जरा हटके राजनीति

कौन है प्रवीण तोगड़िया और क्यों बना वाजपेयी और मोदी का धुरविरोधी

प्रवीण तोगड़िया का जन्म 1956 में गुजरात के अमरेली में एक किसान परिवार हुआ था और इनकी शिक्षा अहमदाबाद में पूरी हुई । कहा जाता है कि जब ये छोटे थे तब इन्हें सोमनाथ मंदिर जाने का अवसर प्राप्त हुआ लेकिन जब इन्होंने उस मंदिर के टूटे हुए अवशेषों को देखने के बाद उन्हें हिन्दुत्व […]

इतिहास के पन्नों से

इनाम और उपाधियों के चक्कर में शायर मिर्जा गालिब अंग्रेजों के चाटूकार बन बैठे थे

हमारे देश मे काफी तादाद में शायर और ग़ज़लकार हुए जिन्हें इस देश की जनता ने खूब प्यार दिया और उनके प्यार का ही नतीजा होता है कि वो आसमान की बुलन्दियों पर होते हैं और उस शायर के  शायरी और ग़ज़ल से आप भी अपनो को खुश करने का हर संभव प्रयास करते हैं […]

इतिहास के पन्नों से जरा हटके

1857 की वो क्रांतिकारी जो दिन में अंग्रेजो से लड़ती और रात में उन्हीं के छावनियों में नाचती थी

1857 की क्रांति तो आप सबों ने पढ़ा ही होगा इस क्रांति को किसी ने धार्मिक क्रांति ,किसी ने सामाजिक क्रांति तो किसी ने इसे सिपाही विद्रोह कह कर संबोधित किया था साथ ही विद्वानों का ये भी मानना था कि अगर यह विद्रोह टुकड़ों में ना होकर एक साथ लड़ा जाता तो शायद देश […]

इतिहास के पन्नों से

अंग्रेजो पर विश्वास करने वाले इन कांग्रेसी नेताओं को जब डफरिन ने दिया था जोर का झटका

भारत की राजनीति और उसके इतिहास में कई नेताओं ने अपनी अलग अलग पहचान बनाई है जिसमे कइयों की पहचान काफी अच्छे और लोकप्रिय नेता के रूप में किया जाता है तो कुछ ऐसे नेता हुए जिन्हे जनता याद तो दूर की बात है सपने में भी नही देखना चाहती लेकिन मजे की बात तो […]

इतिहास के पन्नों से

देश के कुछ दिग्गज नेता ही अंग्रेजी हुकूमत के प्रति नही थे एक मत

भारतीय राजनीति में नेता कभी भी एक मत नही रह पाते हैं समय और परिस्थिति के अनुसार वो रंग बदलने में गिरगिट को भी पीछे छोड़ देते हैं बस उन्हें इंतज़ार होता है तो सही मौके का जिसका वो जम कर फायदा उठा सकें | हम बात करने वाले हैं इतिहास के सबसे बड़े और […]

इतिहास के पन्नों से खेल

अफ्रीकन पेस बैट्री को 'डाउन' कर सहवाग नें डेब्यू में जड़ा था शतक

2001 के आखिरी महीनों में टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका के दौरे पर थी। पहला टेस्ट 3 नवंबर से ब्लूमफोंटेन में शुरू हो रहा था। मेजबान कप्तान शान पोलाक नें उछाल भरी तेज पिच पर टास जीतकर पहले फील्डिंग करनें का फैसला किया। भारतीयों के लिए परिस्थितियाँ बिल्कुल अलग थी. पिच पर घास नजर आ रही […]