राम मंदिर भूमि पूजन में नही शामिल हो सकेंगे नेपाल के महंत, बॉर्डर पर रोके गए

राम मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन 5 अगस्त को निर्धारित की गई है। इसके लिए तैयारियां ज़ोरशोर से ज़ारी है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की उपस्थिति और मेहमानों की फेहरिस्त ज़ारी कर दी है तथा उन्हें सम्मान के साथ आमंत्रित भी किया गया है।

जब अटल जी ने कहा था, आज अगर जिंदा हूँ तो राजीव गांधी की बदौलत

इसी बीच सूत्रों से ख़बर मिली है कि नेपाल के जानकी मंदिर के महंत राम तपेश्वर दास अब 5 अगस्त को राम मंदिर भूमि पूजन में शामिल नहीं हो पाएंगे। वीएचपी अधिकारियों के मुताबिक सोमवार शाम को उन्हें नेपाल-भारत बॉर्डर मेतिहानी पर रोक दिया गया। वीएचपी ने बताया कि शायद कोविड-19 को लेकर बॉर्डर पर सख्ती की वजह से उन्हें रोका गया है। अभी आधिकारिक तौर पर कोई बयान सामने नही आया है इस बारे में।

आपको विस्तार में बता दें कि बुधवार को होने वाले भूमि पूजन के लिए महंत राम तपेश्वर दास को भी निमंत्रण भेजा गया था। राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने सोमवार को हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसकी जानकारी दी और तब कहा था कि नेपाल के संत भी आयोजन में शामिल होंगे।

अमेरिका में भी होगी श्री राम की गूंज, हो रही भूमि पूजन को ऐतिहासिक बनाने की तैयारी

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े 

Facebook Comments

Leave a Reply