अटल बिहारी वाजपेयी | Atal Bihari Vajpayee dies at 93. its an end of a era
देश

अटल युग का अंत: नही रहा राजनीति का शिखर पुरुष

और आज इसी के साथ अटल युग का अंत हो गया । अटल बिहारी वाजपेयी पिछले कई महीनों से देश के प्रतिष्ठित अस्पताल AIIMS में भर्ती थे ।अस्पताल के डॉक्टर के मुताबिक पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को किडनी में संक्रमण, छाती में संकुलन और पेशाब ना होने की समस्या से जूझ रहे थे । अटल बिहारी वाजपेयी को इन बीमारियों के कारण 11 जून को AIIMS में भर्ती कराया गया था और उनका इलाज AIIMS के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया की देख रेख में डॉक्टरों की उनका इलाज कर रही थी लेकिन पिछले 2 दिनों से उनकी हालत काफी नाजुक बताया जा रहा था जिस कारण उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर भी रखा गया फिर भी उनकी स्वास्थ्य में कोई सुधार नहीं आसका और अंततः 16 अगस्त को अटल बिहारी वाजपेयी दुनिया को अलविदा कह गए ।

जब साल 1988 में अटल जी की मौत से ठन गई

सूत्रों के मुताबिक अटल बिहारी वाजपेयी का पार्थिव शरीर को 17 अगस्त को अंतिम दर्शन के लिए पार्टी मुख्यालय में रखा जाएगा और 18 अगस्त को राजघाट के निकट उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा । जहां अटल बिहारी वाजपेयी के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया जाएगा उस जगह की नाम अटल घाट रखा जा सकता है ।

डिमेंशिया से भी थे ग्रसित

बताया जा रहा था कि अटल बिहारी वाजपेयी डिमेंशिया नामक बीमारी से भी ग्रसित थे जिस कारण वो 2009 से ही व्हील चेयर के सहारे चलते थे । डिमेंशिया एक ऐसा बीमारी है जिसमें मरीज की यदास्त कमजोर हो जाती है और इस बीमारी के कारण वो अपना दैनिक कार्य तक नहीं कर सकता । डिमेंशिया एक प्रकार का लक्षण है जो कई बीमारियों के कारण होता है । यह बीमारी ज़्यादातर अल्जाइमर होने के केस में होता है । इस बीमारी के कारण उस व्यक्ति के व्यक्तित्व में भी फर्क होने लगता है वो बोलना चाहता है कुछ और उसके मुख पर शब्द कुछ और आता है । यह बीमारी ज़्यादातर 65 वर्ष से अधिक आयु वाले व्यक्ति को ही होता है ।

Facebook Comments
Rahul Tiwari
युवा पत्रकार
http://www.thenationfirst.com

Leave a Reply