देश राजनीति

बड़े लोगों के साथ सोए बिना एंकर-रिपोर्टर नहीं बन सकती एक महिला पत्रकार

तमिलनाडु में कुछ दिन पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में एक महिला पत्रकार का वहाँ के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित द्वारा गाल थपथपाने को लेकर काफी विवाद हुआ था। और अब वहां के स्थानीय बीजपी नेता ने इस कड़ी में एक नया विवादित बयान दे दिया है। बीजपी नेता एसवी शेखर ने फसबूक पेज पर एक पोस्ट करते हुए महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यण को लेकर लिखा कि राज्यपाल को गाल छूने के फिनायल से हाथ धोने चाहिए थे ।

बीजेपी नेता एसवी शेखर अपने फेसबुक पोस्ट में यही नही रुके उन्होंने इसके बाद महिला पत्रकार को लेकर एक से एक भद्दी और आपत्तिजनक टिप्पणी की। उन्होंने कहा कि मीडिया में कई ऐसे अनपढ़ और जाहिल लोग हैं, राज्यपाल पर आरोप लगाने वाली पत्रकार इसका अपवाद नहीं है।

बीजेपी नेता ने आगे लिखा, " एजुकेशनल इंस्टीट्यूट के मुकाबले मीडिया सेक्टर में महिलाओं के साथ ज्यादा यौन उत्पीड़न होता है। महिला पत्रकार मीडिया इंडस्ट्री में पद पाने या अपना काम निकलवाने के लिए बड़े लोगों (बॉस) के साथ सोती है। एक महिला पत्रकार एंकर या रिपोर्टर बन सकती जब वह बड़े लोगों के साथ सो ना ले"

हालांकि, बीजेपी नेता ने आगे अपने पोस्ट में कहा कि "इनमें जो अपवाद है उनका मैं सम्मान करता हूं। हालांकि तमिलनाडु मीडिया में ज्यादातर लोग ब्लैकमेलर्स और घटिया हैं।"

शेखर के इस पोस्ट के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उन्हें जमकर लताड़ लगाई जिसके उन्होंने अपने इस पोस्ट को डिलीट कर दिया लेकिन डिलीट करने से पहले ही उनके इस पोस्ट का स्क्रीनशॉट वायरल हो गया। बता दें कि बीजेपी नेता ने यह पोस्ट तमिल भाषा मे लिखा था।

कहां से शुरू हुआ विवाद

हालही में तीन दिन पहले तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने उनसे सवाल पूछने वाली महिला पत्रकार लक्ष्मी सुब्रमण्यण का गाल थपथपाया था। जिसके बाद इस पत्रकार ने गुस्से में ट्वीट किया कि कई बार अपना चेहरा धोया है पर अब भी उस एहसास से छुटकारा नही मिला है। जिसके बाद राज्यपाल ने माफी मांग ले थी।

गौरतलब हो कि महिला पत्रकार ने कॉलेज प्रोफेसर अच्छे नंबर के बदले शारीरिक संबंध का दवाब डालने के आरोप पर सवाल पूछा गया था . खबरों के मुताबिक प्रोफेसर ने राज्यपाल के साथ करीबी संबंध होने का दावा किया था .

Facebook Comments

Leave a Reply