गृह मंत्रालय ले लिया बड़ा फैसला, अब सड़क नही हवाई मार्ग से यात्रा करेंगे अर्धसैनिक बलों के जवान
देश

गृह मंत्रालय ने लिया बड़ा फैसला, अब सड़क नही हवाई मार्ग से यात्रा करेंगे अर्धसैनिक बलों के जवान

पुलवामा हमले के बाद केंद्र की मोदी सरकार अपनी बड़ी गलती को सुधारते हुए अब जवानों की सुरक्षा को लेकर बड़ा फैसला लिया है. फैसले के मुताबिक केंद्रीय सशस्त्र पैरामिलिट्री बल के जवानों को अब छुट्टी पर आने जाने के लिए हवाई जहाज की सुविधा मिलेगी.गृह मंत्रालय ने अपने फैसले में कहा है कि जवानों को श्रीनगर से जम्मू, जम्मू से श्रीनगर, जम्मू से दिल्ली और दिल्ली से जम्मू रूट पर हवाई सुविधा दी जाएगी.

आपको बता दें कि जवानों की सुरक्षा को लेकर यह मांग बहुत पहले से की जा रही थी. पुलवामा हमले से ठीक पहले भी जवानों ने गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर यह सुविधा मुहैया कराने की मांग रखी थी जिसे गृह मंत्रालय ने ठुकड़ा दिया था. जिसके बाद सड़क यात्रा के दौरान जवानों के साथ यह दर्दनाक हो गया.

अब सरकार ने यह फैसला लिया है कि असम रायफल्स, बीएसएफ, सीआरपीएफ, आईटीबीपी, एसएसबी और एनएसजी समेत सभी जवानों को हवाई यात्रा की सुविधा दी जाएगी . यानी जो भी जवान अपनी ड्यूटी से लौट रहा हो, उसका ट्रांसफर हुआ हो या फिर घर से लौट रहा हो, उन सभी जवानों को जम्मू बेस कैंप या नई दिल्ली से श्रीनगर हवाई रास्ते से ही भेजा जाएगा. इतना ही नहीं अगर कोई जवान श्रीनगर से लौट रहा है तो भी उसे हवाई सुविधा मिलेगी.

इस फैसले से करीब सात लाख 80 हजार जवानों को फायदा होगा. पहले ये सुविधा सिर्फ सीनियर रैंक के अधिकारियों को मिलती थी, लेकिन अब कॉन्सटेबल, डेह कॉन्सटेबल और एएसआई को भी हवाई यात्रा की सुविधा मिलेगी. गृह मंत्रालय ने ट्वीट ये जानकारी दी. गृहमंत्रालय ने कहा है कि दिसबंर 2018 में फ्लाइट की संख्या बढ़ाई गई थी. लेकिन इसके बाद भी अगर जरूरत पड़ेगी तो एयरफोर्स की मदद भी ली जाएगी.

सड़क के रास्ते जम्मू से श्रीनगर जाने के क्रम में हुआ था हमला

आपको बता दें कि 14 फरवरी को पुलवामा में जो आतंकी हमला हुआ था, उस समय सुरक्षाबलों का एक बड़ा काफिला सड़क के रास्ते जम्मू से श्रीनगर जा रहा था. इसी का फायदा आतंकियों ने जवानों को निशाना बनाया था.

तब 78 वाहनों में 3 बटालियन के करीब 2500 जवान जम्मू से श्रीनगर जा रहे थे, उसी दौरान जब काफिला पुलवामा में पहुंचा. तो जैश के लोकल आतंकी आदिल अहमद डार ने अपनी विस्फोटक से भरी गाड़ी को जवानों के काफिले में घुसा दिया था, जिसकी वजह से धमाका हुआ और हमारे 44 जवान शहीद हो गए थे.

सेना की खुली चेतावनी, कहा- कितने गाजी आये और चले गये कश्मीर में अब जो भी बन्दूक उठाएगा मारा जायेगा

पुलवामा हमले पर भारतीय क्रिकेटर मोहम्मद शमी ने दिल छू लेने वाली बात कही है

 

Facebook Comments

Leave a Reply