डीआईजी को मिली 11 पन्नों की गुमनाम ख़त से खुलेंगे भय्यूजी महाराज की मौत के कई राज
देश

डीआईजी को मिली 11 पन्नों की गुमनाम ख़त से खुलेंगे भय्यूजी महाराज की मौत के कई राज

आध्यात्मिक संत भय्यूजी महाराज के खुदकुशी के कारणों पर से अब धीरे-धीरे पर्दा उठता जा रहा है . और जैसे-जैसे ये पर्दा उठ रहा है, शक की सुई उनकी पत्नी डॉ आयुषी पर गहराता जा रहा है . दरअसल डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र के पास गुरुवार को 11 पन्नों का एक गुमनाम ख़त पहुंचा जिसमें भय्यूजी के मौत के कई रहस्य है और डॉ आयुषी पर कई गंभीर आरोप . इस पत्र में लिखा है कि जिस दिन से भय्यूजी ने डॉ आयुषी से शादी की उसी दिन से भय्यूजी की जिंदगी में कलह और उथल-पुथल शुरू हो गयी.

शादी के तुरंत बाद ही आयुषी ने भय्यूजी को उनके घरवालों से दूर करना शुरू कर दिया और आश्रम में अपने चाचा और भाई की एंट्री करवा दी. भ्य्यूजी की पहली पत्नी से हुई बेटी कुहू से दूर रहने का दवाब बनाने लगी.

ख़त में यह भी आरोप लगाया है कि आयुषी की नजर भय्यूजी की संपत्ति और कैश पर थी. 11 पन्नों की इस गुमनाम ख़त में और भी आरोप हैं और भ्य्यूजी की मौत से जुड़े कई राज भी. यह ख़त भ्य्यूजी के किसी करीबी सेवादार ने भेजा है . ख़त में लिखा है कि वह भय्यूजी का विश्वसनीय सेवादार है और इस बात के बाहर आने पर उनकी हत्या की जा सकती है इसीलिए उसने अपना नाम नही बतया है . उसने ख़त में यह भी लिखा है कि वह भय्यूजी की मौत के बारे में वह बहुत कुछ जानता है और चाहता है कि भय्यूजी के मौत के ज़िम्मेदार को कड़ी से कड़ी सजा मिले .

इस गुमनाम सेवादार ने ख़त में लिखा है कि पिछले दो सालों से भय्यूजी घुट-घुट कर जी रहे थे. आयुषी से शादी होने के बाद से ही वह बहुत अकेलापन महसूस कर रहे थे. आयुषी ने लगभग उनके हरेक काम में दखल देना शुरू कर दिया था. पहली पत्नी की चर्चा होते ही वह भड़क जाती थी. उनकी घर में लगी हरेक फोटो को उसने हटवा दिया था . और इससे सब से भय्यूजी ने परेशान रहने लगे थे कि आखिर में उसने जिंदगी से हारकर मौत को चुन लिया .

कौन थे भय्यूजी महाराज ?

भय्यूजी महाराज का असली नाम उदयसिंह देशमुख था . आध्यात्मिक गुरु बनने से पहले वो मॉडलिंग भी कर चुके हैं . उन्होंने दो शादी की थी, पहली पत्नी माधवी का दो साल पहले देहांत हो चुका था . पहली पत्नी से एक बेटी है कुहू . भय्यूजी महाराज ने दूसरी शादी डॉ आयुषी शर्मा से की थी .

Facebook Comments

Leave a Reply