प्रणव मुखर्जी का RSS के कार्यक्रम में शामिल होने के फैसले से उठा राजनीतिक भूचाल
देश राजनीति

पूर्व राष्ट्रपति का आरएसएस के कार्यक्रम में शामिल होने के फैसले से उठ रहा राजनीतिक भूचाल

पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को आरएसएस के कार्यक्रम में शरीक होने का न्यौता क्या मिला... मानो हिंदुस्तान की राजनीति में भूचाल ही आ गयी. हर वो नेता जो RSS से नहीं जुड़े हैं वो अपनी तरफ से यही कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी तरह प्रणव मुखर्जी RSS के कार्यक्रम में  शामिल न हों । हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब प्रणव मुखर्जी RSS के कार्यक्रम में शिरकत करेंगे, इससे पहले भी वो कई बार RSS के नेताओं के साथ मंच साझा कर चुके हैं ।

इसे भी पढ़ें: मेरी माँ पर इस तरह के कमेंट्स से पीएम मोदी के क्वालिटी का पता चलता है: राहुल गाँधी

जब प्रणव मुखर्जी राष्ट्रपति के पद पर आशिन थे तब उन्होंने मोहन भागवत को डिनर के लिए राष्ट्रपति भवन में आमंत्रित किया था। उसके बाद दूसरी बार फाउंडेशन के उदघाटन समारोह में इन्हें आमंत्रित कर मंच साझा किया गया था लेकिन उस वक्त प्रणव मुखर्जी का RSS के नेताओं के साथ मिलने और मंच साझा करने के बाद यह मामला इतना तूल नहीं पकड़ा था जितना आज पकड़ा है ।

आरएसएस है कोई ISIS  नहीं

भाजपा के वरिष्ठ नेता एवम् केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि यह RSS है कोई ISIS नहीं जिसे इतना तूल दिया जा रहा है । RSS को किसे बुलाना चाहिए किसे नहीं बुलाना चाहिए और किसे जाना चाहिए और किसे नहीं जाना चाहिए ये उनका अपना खुद का अधिकार है जिसे वो खुद ही तय करेंगे ।

पता नहीं लोगों को इस बात से आपत्ति क्यों हो रही है । आपको बता दें की अगले महीने नागपुर में होने वाले RSS के कार्यक्रम के लिए सोमवार को भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी को आमंत्रित किया गया था जिसके बाद प्रणव मुखर्जी ने कार्यक्रम में शामिल होने के लिए हामी भर दी है ।

कांग्रेस के दिग्गज नेता ने RSS के कार्यक्रम में शामिल न होने की की अपील

अगले महीने के 7 जून से नागपुर में होने वाले RSS के कार्यक्रम में प्रणव मुख़र्जी को शामिल नही होने की अपील कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सीके जफर शरीफ ने की है  उन्होंने कहा कि RSS के कार्यक्रम में शामिल होने के अपने फैसले पर प्रणव मुखर्जी से दोबारा विचार करना चाहिए यह अपील उन्होंने खत के माध्यम से की है । उन्होंने खत में लिखा कि ''मुझे ये जानकर बड़ा आश्चर्य हो रहा है कि पूर्व राष्ट्रपति RSS के कार्यक्रम में सरीख होने नागपुर जा रहे हैं मुझे ये समझ नहीं आ रहा की आपने इस फैसले को किस मजबूरी में स्वीकार किया है'' ।

नोट: ऐसे ही लेटेस्ट ख़बरों के लिए बने रहिए The Nation First के साथ

2,007 total views, 7 views today

Facebook Comments

Leave a Reply