दुनिया देश राजनीति

पाकिस्तान को सुषमा स्वराज की दो टूक, कहा- आतंकवाद और बातचीत एक साथ नहीं

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पाकिस्तान को दो टूक सुनाते हुए कहा कि पाकिस्तान पहले आतंकवाद का रास्ता छोड़े उसके बाद ही बातचीत संभव हो सकती है । आतंकवाद और बातचीत दोनो एक साथ संभव नहीं है । उन्होंने कहा कि जब सिमा पर सैनिक शहीद हो रहे हो इस हालात में बातचीत करना बिल्कुल संभव नहीं है , जब तक पाकिस्तान पठान कोर्ट जैसे हमले और घुसपैठ की नीति को छोर नहीं देता तब तक किसी भी सूरत में बातचीत नहीं हो सकती । यूं तो हमेशा ही पाकिस्तान बातचीत करने का दिखावा करता रहा है लेकिन जब तक वो आतंकवाद के रास्ते को नही छोड़ता तबतक किसी भी तरह की बात चीत नहीं हो सकती ।

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक चुनाव: बीजेपी या कांग्रेस आखिर किसने की लोकतंत्र का हत्या ?

गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पाकिस्तान के रवैये पर भी बोली सुषमा स्वराज

उधर गिलगित-बल्तिस्तान को लेकर पाकिस्तान के रवैये पर सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत ने अपनी ओर से कूटनीतिक कारवाई शुरू कर दिया है । हमने उच्चायुक्त को उसी दिन तलब कर दिया था जब पाकिस्तान ने उसे 5वां राज्य बनाने की बात कही थी । उसके बात सुषमा स्वराज ने कहा कि हमारी सरकार ने अभी अभी 4 साल पूरा किये हैं और मैं दावे के साथ कह सकती हूं कि इन 4 सालों में जितना विदेश मंत्री का कार्य हुआ है उतना किसी भी सरकार ने नहीं किया । हमने अपने  विदेश नीति की झंडा पूरे विश्व मे लहराया है ।

मंत्रालय के 4 साल के नीतियों के आधार पर स्वराज ने एक पुस्तिका का लोकार्पण भी किया

सुषमा स्वराज, रिटायर्ड जर्नल वीके सिंह और एम जे अकबर ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पत्रकारों से बातचीत की और विदेश मंत्रालय के 4 साल के नीतियों के आधार पर एक पुस्तिका का भी लोकार्पण किया गया । स्वराज ने कहा कि हमारी सरकार ने इन 4 सालों में अपने बेहतरीन नीतियों के कारण 192 देशों में से 186 देशों के साथ अपने संबंधों को एक नया आयाम देने में सफल हुई है ।

हमारी सरकार को जब से सत्ता प्राप्त हुई है तब से लेकर आजतक भारत ने वैश्विक 4 निर्यात नियंत्रण समूहों में से 3 की सदस्यता हासिल की है । दुनिया भर से 90 हजार से भी ज्यादा भारतीयों को सुरक्षित वापस भारत लाया है । उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने ऐसे ऐसे देशों के साथ भारत के संबंध को कायम किया है जहां किसी सरकार ने वहां जाना या उन से बातचीत करना मुनासिफ नहीं समझा वहां हमारी सरकार ने ऐसे देशों के साथ संपर्क साधा है।

नोट: ऐसे ही लेटेस्ट ख़बरों के लिए बने रहिए The Nation First के साथ

1,406 total views, 12 views today

Facebook Comments

Leave a Reply