देश

आजादी के बाद के 10 सबसे बड़े घोटाले जिसने सबको हैरान किया

बाप बड़ा ना भईया सबसे बड़ा रुपईया आज देश की हालत देखकर यही जुमला याद आता है हर व्यक्ति घोटाला करने में ही लगा हुआ है । पैसों के पीछे लोग इतने पागल हो गए हैं कि जहां उनका जन्म हुआ, पहली बार साँस लिया, जिस देश की सेना हमें प्रोटेक्ट करती है, जहां के किसान का अनाज खा कर हम बड़े हुए हैं आज हम उसी देश को लूट कर अपनी जेब गरम करने में लगे हैं । और अगर घोटाला प्रकाश में आता भी है चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है क्योंकि कुछ सालों की जेल होगी और सबसे बड़ी विडंबना यह है कि इतना कुछ करने के बाद भी आपको जेल में सजा काटने की ज़रूरत नही है आपको आसानी से बेल मिल जाएगी और फिर बाहर आकर ऐस कर सकते हैं ।

और अगर घोटाला करने के बाद देश से बाहर रहने का प्रबंध है तो आराम से देश से निकल सकते हैं और आराम की ज़िंदगी जी सकते हैं, चाहे देश के किसान आत्महत्या करें या आम नागरिक भूखा मरे इससे उन्हें कोई फर्क नही पड़ता है और ना हीं इस सिस्टम को, बस उनका आराम की ज़िंदगी कटे इसी में सुख है बाकी तो झोल झाल है ।

अगर कोई घोटाला करता है तो बगैर सिस्टम के सहयोग के वो घोटाला नही कर सकता है इसमें कहीं न कहीं हमारा सिस्टम घोटाला करने वाले से अधिक दोषी है थोड़े से व्यक्तिगत लाभ के लिए ऐसे लोगों का सहयोग करते हैं आज हम आपको ऐसे ही देश में हुए बड़े-बड़े घोटाले के बड़े में बताने जा रहे हैं जिससे आप की आंखे खुली की खुली रह जाएंगे और सोचेंगे कि अगर ये पैसा देश मे होता तो शायद कोई भूखा नहीं मरता और किसान आत्महत्या नही करता ।

1. फोबर्स तोप घोटाला

भारत की आजादी के बाद का ये सबसे बड़े घोटालों में शुमार हुआ । इस घोटाले को 1980 से 1990 के बीच अंजाम दिया गया था जो 6500 करोड़ का था यानी एक तरफ देश आजादी के बाद खुद को संभालने में लगा था तो दूसरी तरफ इतने बड़े घोटाले को अंजाम दिया जा रहा था । 1986 में हथियार बनाने वाली स्वीडन की एक कंपनी फोबर्स ने भारतीय सेना को करीब 400 तोपें देने का करार किया जो की 1.3 डॉलर की डील थी लेकिन कुछ ही महीने बाद 1987 में एक खुलासा हुआ कि भारत मे इस सौदे को हासिल करने के लिए 64 करोड़ की दलाली दी गई है ।

2. चारा घोटाला

इस घोटाले की शुरुआत 1990 में हुई थी और घोटाले का तार बिहार के मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव से जुड़ा हुआ था जिसकी वो फिलहाल सज़ा भी काट रहे हैं । इस घोटाले की शुरुआत 2 करोड़ से हुई थी जो धीरे धीरे 950 करोड़ रुपये तक जा पहुंची । इस घोटाले को चारा घोटाला के नाम से जाना जाता है दरअसल यह घोटाला सिर्फ पशुपालन विभाग से संबंधित नहीं था बल्कि बिहार सरकार के खजाने से गलत ढंग से पैसा निकाल कर अपनी जेब गरम करने का मामला था जो कई सालों में पशुपालन विभाग के अधिकारियों और ठेकेदारों ने नेताओं के साथ मिल कर अंजाम दिया था

3. तेलगी घोटाला

1995 में अब्दुल करीम तेलगी के ऊपर घोटाले का आरोप लगा और उसके ऊपर एफआईआर दर्ज किया गया । यह घोटाला करीब 20000 करोड़ का था जिसे काफी शातिराना तरीके से अंजाम दिया गया था पहले तो तेलगी ने स्टाम्प पेपर बेचने का लाइसेन्स लिया और उसके बाद वो नकली स्टाम्प छापने लगा लेकिन कुछ साल पहले मामले का खुलासा हुआ और 2006 तेलगी को 30 साल की सजा सुनाई गई और 202 करोड़ का जुर्माना भी लगाया गया । तेलगी की मौत सजा काटने से पहले ही 2017 में बंगलुरू के एक सरकारी अस्पताल में मौत हो गई ।

4. 2जी घोटाला

इस घोटाले की शुरुआत 2008 में हुई थी जो 17600 करोड़ की घोटाला थी इस घोटाले का उगाजर 2010 में हुआ और यह देश मे अबतक के सबसे बड़ा आर्थिक घोटाला माना जाता है । 2010 में जब भारत के महालेखाकार और नियंत्रक ने स्पेक्ट्रम आवंटन पर एक रिपोर्ट सौंपी जो 2008 से संबंधित था । 2जी स्पेक्ट्रम मामले में कंपनीयों को नीलामी करने के बजाए पहले आओ पहले पाओ की नीति पर लाइसेंस दिया गया जिसमें भारत सरकार के सरकारी खजाने को करीब 76 हजार कड़ोर का नुकसान हुआ था । इस घोटाले का आरोप 14 लोगों और 3 कंपनीयों के ऊपर लगाया गया था जिनपर आरोप सिद्ध नही होने के कारण बरी कर दिया गया ।

5. सत्यम घोटाला

यह घोटाला 2009 में सामने आया था जिसमे करीब 14000 करोड़ का घोटाला किया गया था । सत्यम घोटाले में हैदराबाद की विशेष अदालत ने कंपनी के पूर्व चैयरमैन रामलिंग राजू के साथ साथ 10 और लोगों को सजा सुनाई थी । अदालत ने राजू के ऊपर 5 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया था कंपनी के मुख्य वित्तीय अधिकारी श्रीनिवासन वादलामानी समेत अन्य अधिकारियों पर भी धोकाधड़ी का मामला दर्ज किया गया था । यह मामला 50 महीनों तक चला था ।

6. कोयला आवंटन घोटाला

यह घोटाला वर्ष 2012 में किया गया था जो करीब 1,86,000 करोड़ का घोटाला था । इस मामले का उगाजर उस समय हुआ जब देश के महालेखाकार और नियंत्रक ने मार्च 2012 में सरकार पर आरोप लगाया कि 2004 से 2009 तक कोयला ब्लॉक का आवंटन गलत तरीके से किया गया है। नियंत्रक के अनुसार सरकारी खजाने को करीब 1,86,000 करोड़ की चुना लगाया गया है । नियंत्रक के मुताबिक सरकार ने बिना किसी नीलामी के कई फर्मों को कोयला ब्लॉक आवंटित कर दिया गया जिसमें टाटा स्टील, भूषण स्टील, एनटीपिसी,जेएसपीएल और सीईएससी आदि कंपनियां सामिल थी ।

7. वक्फ बोर्ड ज़मीन घोटाला

इस घोटाले को भी 2012 में ही अंजाम दिया गया था जो करीब 1,50,000 करोड़ का घोटाला था जिसे कर्नाटक अल्पसंख्यक आयोग ने राज्य के वक्फ बोर्ड ने इन रुपयों के घोटाले का खुलासा किया था । कर्नाटक अल्पसंख्यक आयोग ने तत्काल मुख्यमंत्री सदानंद गौंडा को अपनी रिपोर्ट सौंपा जिसमें बोर्ड के पास 54 हजार एकड़ जमीन पंजीकृत थी और उसमें करीब 27 हजार एकड़ की गड़बड़ी की गई थी ।

8. किंगफिशर घोटाला

2005 में मल्ल्या द्वारा किंगफिशर एयरलाइंस की स्थापना किया गया था और ये अपनी सुरूआती समय मे काफी तेजी से दौरा लेकिन 2009 में एयरलाइंस को करीब 418.77 करोड़ रूपये का नुकसान हो गया जिस कारण उसने अपने 100 को नौकरी से निकाल दिया गया और 2014 आते आते किंगफिशर दिवालिया घोषित हो गया इस दौरान माल्या को 2009 में आईडीबीआई बैंक ने 950 करोड़ का लोन पास किया । 2009 में ही एक खत में ब्योरा दिया गया और कहा गया कि विदेशी वेंडर को पैसा चुकाने के लिए उन्हें 150 करोड़ की ज़रूरत है इसके बाद क्रेडिट कमिटी में एक मेमोरंडम रखा गया और लोन की मंजूरी दे दी गई । ये मंजूरी किंगफिशर के दिवालिया हालात को जानने के बावजूद भी दे दिया गया था ।

9. पंजाब नेशनल बैंक घोटाला (नीरव मोदी)

पंजाब नेशनल बैंक को नीरव मोदी जो कि एक हीरा कारोबारी है उसने 11400 करोड़ का चूना लगाया है और विजय माल्या के तरह ही नीरव मोदी भी देश को चुना लगाने के बाद फरार हो गया है हालांकि ईडी की ओर से लगातार छापेमारी की जा रही है । I

10. रोटोमैक घोटाला

हालही में कुछ दिन पहले एक पेन बनाने वाली कंपनी ने 3700 करोड़ का घोटाला किया है और इस घोटाले के आरोप रोटोमैक के मालिक विक्रम कोठारी और उनके बेटे राहुल कोठरी पर लगा है . यह घोटाले के मामलों में सबसे ताज़ा मामला है. CBI ने इन दोनों बाप बेटे को गिरफ्तार कर लिया है । दरअसल इन बाप बेटे ने मिल कर करीब 7 बैंकों से 2919 करोड़ रुपये लोन के तौर पर लिये थे और यह राशि व्याज के साथ 3695 करोड़ हो गया है लेकिन इसे चुकाया नहीं गया ।

यह भी पढ़ेंगबन-करोड़ों का

1,607 total views, 1 views today

Facebook Comments

One thought on “आजादी के बाद के 10 सबसे बड़े घोटाले जिसने सबको हैरान किया”

Leave a Reply