कविता

तेरी रूह में उतर कर मैं एक कहानी लिखता हूँ

तेरी रूह में उतर कर मैं एक कहानी लिखता हूँ  । प्यार के अल्फाज़ो से सजाए मैं तेरी नादानी लिखता हूँ, तेरी रूह में उतर कर मैं एक कहानी लिखता हूँ । लाखों अरमा हैं तेरे दिल में उस अरमा को मैं अपनी जुबानी लिखता हूँ , तेरी रूह में उतर कर मैं एक कहानी […]

39,115 total views, 3 views today

कविता

दोस्त

वो दोस्ती एक हसीन किस्सा था जो वक़्त के साथ गुज़रता गया , बचपन की यादों को छोड़ वो सपनो के पीछे उड़ता गया, लड़ता है आज वो खुद से जो कभी हमारे लिए लड़ता रहा । जिम्मेदारी के बोझ तले ऐसे  दबा वो और फिर व्यस्त हुआ दुनियादरी में, मांज रहा पीतल की तरह कोई किस्मत […]

3,145 total views, 1 views today

कविता

तुम बहुत हसीन हो ऐ कविता

तुम बहुत हसीन हो ऐ कविता जो जज्बातों को जगती हो । वर्षों से धूमिल पड़ी यादों को शब्दो में सजाती हो, कभी संजोती तुम उन हसीन लम्हों को, कभी सजाती तुम उन नमकीन लम्हों को, याद दिला कर वादों का उनका एहसास दिलाती हो, तुम बहुत हसीन हो ऐ कविता जो जज्बातों को जागती […]

3,565 total views, 1 views today

कविता

मेरी आरजू

एक आरजू थी ऐ ज़िंदगी कस कर गले लगता तुझे, मुझे मालूम है तू मुझसे खफा है, फिरभी अपना होने का एहसास दिलाता तुझे, ऐ ज़िंदगी कसकर गले लगता तुझे । हर वक़्त तू मेरे साथ और मैं तेरे साथ रहूं, तेरी ही आगोस में मैं सोता हूँ, शायद इसका एहसास दिलाता तुझे, ऐ ज़िंदगी […]

2,823 total views, 3 views today

कविता

आ ज़िंदगी जी लूँ तुझे

यह भी पढ़ें : तुम भी तन्हा मैं भी तन्हा आ ज़िंदगी जी लूँ तुझे, कब से फरियाद कर रहा था तू कभी तो टटोल मेरे मन को मैं ही तो तेरा आपना हूँ तेरे उज्ज्वल भविष्य का एक मात्र सपना  हूँ । बुझे हुए दीपक को जला कर कर रोशनी खुद में पीछे छोर दे […]

2,704 total views, 1 views today

कविता

की मैं तेरा हूँ

निकाल दो ये ख्याल अपने दिल से की मैं तेरा हूँ दूर जा चुका हूँ मैं तुमसे तू जा ढूंढ ले किसी और को तू बीते हुए कल की सवेरा थी और मैं आने वाला कल का सवेरा हूँ । आपत्ति मुझे कोई नहीं यही तो तेरा पेसा है आज मेरे इश्क़ की गला घोटी […]

2,193 total views, 2 views today

कविता

एक बूंद गिरा जो रक्त का

एक बूंद गिरा जो रक्त का लाल हुआ ये अम्बर छलक पड़ा आंखों से आंसू देख भयावह मंजर जंज़ीरों में जकड़ी थी वो हुआ मलाल उसका अपनी आहुति देने को खड़ा था लाल उसका बेदी सजी थी वीरों की मिट्टी की तिलक लगा कर बजे नगाड़े मैदां में युद्ध का भीषण हुंकार हुआ वक़्त की […]

2,608 total views, 3 views today

कविता

भारत माँ के बेटे हैं हम जो रहता गंगा घाट है

भारत माँ के बेटे हैं हम जो रहता गंगा घाट है  दरिया सा बहता हूं मैं समंदर सा आतुर हूँ वक़्त की कीमत को पहचानूँ इसीलिए मगरूर हूँ सूर्य की किरणों सा चमकता मेरा ललाट है भारत माँ के बेटे हैं, हम जो रहता गंगा घाट है शीतलता चंद्रमा से मिली प्रण लेने की शक्ति, अपने देवों से […]

4,204 total views, 2 views today

कविता

आबरु

तेरी करुण कंद्रण से दिल मेरा भी रोया था, आंसू रक्त के माफिक उस वक्त जब तेरे आंखों से बहा था, जब तेरी आबरु तार तार हुआ एक आग लगी थी उस वक्त मेरे दिल मे भी, और मैं जार जार रोया था । दरिंदगी की सारी हदें पार कर दी थीं जब उन दरिंकदो […]

2,563 total views, no views today

कविता

फरेबी

धुंध.. पर गई यादों पे खामोश हो गई वो अपने हीं वादों पे, जब दामन थाम दूसरे की निकली वो शक हुआ था मुझे उसके इरादों पे, शक्ल मासूम था दिल मे लिये थी खंजर नज़रें थीं झुकी हुई मेरे सपनों को तोड़ रही थी वो काफी भयावह था वो मंजर, फरेब मानों रियासत में […]

2,544 total views, no views today