कविता

सवाल

                                       अभी,सवाल तेरे पास भी है,
                                               मेरे पास भी।
                                                   अभी,
                                           प्यास तेरे पास भी है,
                                                 मेरे पास भी।
                                       सुकून की ज़रूरत तुझे भी है,
                                                 और मुझे भी।
                                                       चलो,
                                                  चलते हैं ढूँढने;
                                          अपने प्यार का पता पाने।
                                                        लेकिन,
                                    तब तक यात्रा का आनंद भी लेते चलें!
                                उदासी और तन्हाई में क्यों अपना समय खो दें?
                                                      हम जानते हैं,
                                               न सिर्फ़ हम बेक़रार हैं
                                               बल्कि वह भी बेक़रार है।
                                                 जितनी बेचैनी इधर है,
                                                 उतनी बेचैनी उधर भी।
                                                            वह भी,
                                               हमारा इंतजार कर रहा है।
                                                            क्योंकि,
                                                      प्यार उसे भी है,
                                                        और मुझे भी।
                                                       यह बात और है,
                                                      कुछ क्षणों के लिए,
                                                       हम अलग हो गए,
                                              पर इसका अहसास उसे भी है,
                                                           और मुझे भी;
                                                 कुछ सवाल उसके पास भी,
                                                   कुछ सवाल मेरे पास भी।
                                                                अभी,
                                                             हम साथ हैं,
                                                       तो साथ चलने का;
                                                      इष्ट पाने का आनंद लें।
                                                                अभी,
                                                   एक-दूसरे की मदद करें।
                                                               क्योंकि,
                                                        ज़रूरत तुझे भी है,
                                                           और मुझे भी।

यह भी पढ़ें:

कविता: गुड़िया

कविता: संवर जाता मैं !

कविता: जलता रहा मैं रात भर

कविता: कतरा कतरा खुन का बह जाने दे

कहानी: नकाबपोश

कहानी: वीरान जिंदगी और हवस

ऐसे ही कविता-कहानियों का आनंद आप हमसे facebook और twitter पर जुड़ कर भी ले सकते हैं 

1,699 total views, 6 views today

Facebook Comments

One thought on “सवाल”

Leave a Reply