कविता जुर्म

कविता: गुड़िया

गुड़िया माँ मेरी आवाज सुन तु , माँ मैं तुझे पुकार रही हूँ | माँ मुझे नहीं पता की मेरे साथ क्या हुआ पर माँ मुझे बहुत ही दर्द हुआ माँ मैं तो जानती भी नहीं जो मेरे साथ हुआ एक ने मुझे बेरहमी से छुआ तो एक ने रस्सी से बांध दिया मैं पुकार […]

4,559 total views, 15 views today

कविता

कतरा कतरा खुन का बह जाने दे

कतरा कतरा खुन का बह जाने दे जितना भी दर्द है हमारे अंदर रह जाने दे  समंदर भी आतुर है आगोश  मे भरने को शेष है जिन्दगी अभी हम तैयार हैं हर दर्द सहने को सफलता की सीढी हम खुद बनाएंगे अपने जीवन में चन्दमा सा प्रकाश फैलाएंगे सुर्य की तरह प्रकाश हमारा अपना होगा, […]

2,427 total views, 2 views today