स्मृति ईरानी | Amethi rahul gandhi smriti irani
राजनीति

राहुल पर लगाया गया स्मृति ईरानी का आरोप निकला झूठा, चुनाव आयोग ने कहा- तथ्यहीन है आरोप

6 मई को लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण की वोटिंग हुई. पांचवें चरण के अंतर्गत कुल 7 राज्यों की 51 सीटों पर वोटिंग हुई. पूरे दिन इसकी रिपोर्ट सभी न्यूज़ चैनलों पे छाई रही लेकिन हड़कंप तो तब मचा जब केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने ट्विटर पर एक वीडियो शेयर करते हुए राहुल गांधी पर बूथ कैप्चरिंग का आरोप लगा दिया.

स्मृति ईरानी ने चौकीदार विवेक माहेश्वरी के नाम से बनी एक ट्विटर अकाउंट के वीडियो को रीट्वीट करते हुए में चुनाव आयोग को लिखा है कि राहुल बूथ कैप्चरिंग करा रहे हैं. स्मृति के द्वारा रीट्वीट किये गये वीडियो में एक वृद्ध महिला कह रही है कि उन्हें बीजेपी को वोट देना था, लेकिन वहां पर मौजूद एक अधिकारी द्वारा उन्हें जबरन कांग्रेस के निशान पर वोट दिला दिया गया.


केंद्रीय मंत्री ईरानी के इस ट्वीट पर एक्शन में लेते हुए चुनाव आयोग ने बूथ के सभी पोलिंग एजेंटो से पूछताछ की. इस मामले की पूरी जांच की. जांच करने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी वेंकटेश्वर लू ने कहा कि स्मृति ईरानी के द्वारा लगाया गया आरोप बेबुनियाद है. तथ्यहीन हैं. बताया जा रहा है कि यह पूरा मामला अमेठी के गौरीगंज के बूथ नंबर 316 का है.

अमेठी का रण

बता दें कि अमेठी लोकसभा सीट गाँधी परिवार का गढ़ रहा है. साल 2004 से राहुल गाँधी इस सीट पर लगातार जीतते आ रहे हैं. हलाकि इस बार अमेठी में राहुल गाँधी और स्मृति ईरानी के बीच मुकाबला टक्कर का माना जा रहा है. 2014 के चुनाव में राहुल ने स्मृति को लगभग 1 लाख वोटों के अंतर से हराया था लेकिन इसबार भाजपा अपने आक्रामक रणनीति तेवर से राहुल गाँधी को उन्हीं के गढ़ में घेरने की कोशिश में है.

Facebook Comments

Leave a Reply