राजनीति

चारा घोटाले के चौथे केस में लालू यादव को 14 साल की सजा, 60 लाख का जुर्माना

दुमका कोषागार से जुड़े चारा घोटाले के चौथे मामले में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव को दो अलग अलग अलग धाराओं के तहत 7-7 साल की सजा एवम 30-30 लाख का जुर्माना भी लगाया गया है। यानी अब लालू यादव को चारा घोटाले के चौथे केस के तहत कुल 14 साल जेल और 60 लाख जुर्माना भरना होगा। शनिवार को रांची में सीबीआई की विशेष अदालत ने लालू पर यह फैसला सुनाया।

रांची के अस्पताल रिम्स में भर्ती होने के कारण लालू सजा सुनाए जाने के वक़्त अदालत में पेश नही हो सके। लिहाजा जज ने उनके वकील के उपस्थित में इस सजा का एलान किया। जज के फैसले सुनाये जाने के बाद अदालत से बाहर निकलते हुए लालू यादव के वकील ने कहा कि लालू को दो-दो अलग धाराओं के तहत 7-7 साल की सजा सुनाई गई है। अलग अलग धाराओं के चलते एक सजा खत्म होने के बाद दूसरी सजा शुरू की जाएगी। लालू के वकील ने ने बताया वो इस फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती देंगे।

आपको बता दें कि चारा घोटाले के कुल 6 केस हैं जिसमें 4 पर फैसला हो चुकी है और शेष 2 पर सुनवाई जारी है। लालू अभी तक सुनाये गए चारों फैसलों में दोषी पाए गए हैं। चारा घोटाले के चौथे केस दुमका कोषागार मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने हाल ही में (19 मार्च) को दोषी करार दिया था जिसके बाद आज यानी 24 मार्च को इस पर फैसला का एलान हुआ है । जबकि इसी मामले में अदालत ने 19 मार्च को बिहार एक और पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र सहित 12 को बरी कर दिया था।

बता दें कि चारा घोटाला का पहली बार 1996 में मामला दर्ज किया गया था. उस समय इस मामले में कुल 49 आरोपी थे. मुकदमे के दौरान 14 की मौत हो गई. तो वहीं अदालत ने सोमवार को 31 आरोपियों में से 19 को दोषी करार देकर 12 को बरी कर दिया. लालू प्रसाद यादव को वर्ष 2013 में चारा घोटाले के पहले मामले में 5 वर्ष की सजा सुनाई गई थी. 23 दिसंबर 2017 को इसके दूसरे मामले में साढ़े तीन वर्ष की सजा सुनाई गई तो वहीं चारा घोटाले के तीसरे मामले में उन्हें 24 जनवरी को पांच वर्ष की सजा सुनाई गई थी. वर्ष 2000 में बिहार से झारखंड के अलग हो जाने के बाद चारा घोटाले से जुड़े सारे मामलों को रांची स्थानांतरित कर दिया गया था ।

यह भी पढ़ें :चारा घोटाला के चौथे केस में लालू यादव दोषी करार, जगन्नाथ मिश्रा बरी

11,324 total views, 5 views today

Facebook Comments

Leave a Reply