राजनीति

योगी के इस फैसले पर पानी फेर रही खुद उनकी यूपी पुलिस

बीते दिनों से उत्तर प्रदेश इंकॉउंटर स्पेशलिस्ट राज्य बन गया है जिस तरह से योगी सरकार ने अपराधियों को खत्म करने का बीड़ा उठाया है ऐसा लग रहा है मानो उत्तर प्रदेश जल्द ही अपराध मुक्त प्रदेशों के लिस्ट में सुमार हो जाएगा । लेकिन योगी आदित्यनाथ के इस सराहनीय रास्ते का रोड़ा उनकी ही पुलिस बन गई है । उत्तर प्रदेश की पुलिस न केवल अपराधियों का इंकॉउंटर करने से कतरा रही है बल्कि उन्हें बचाने का रास्ता भी बता रही है ।

उत्तर प्रदेश के झांसी के मउरानीपुर थाना प्रभारी सुनीत कुमार और कुख्यात हिस्ट्रीशीटर लेखराज सिंह यादव के बीच बातचीत का एक ऑडियो क्लिप वायरल हो रहा है जिसमें सुनीत कुमार हिस्ट्रीशीटर को बचने का रास्ते बता रहे हैं । हालांकि क्लिप वायरल होने के बाद सुनीत कुमार को सस्पेंड कर दिया गया है लेकिन कहीं न कहीं अपराधी और पुलिस की मिलीभगत उत्तर प्रदेश की प्रशासन और योगी आदित्यनाथ के फैसले दोनों पर सवाल खड़ा कर रही है ।

इस ऑडियो क्लिप में क्या कुछ बताया जा रहा है

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे इस ऑडियो क्लिप में सुनीत कुमार हिस्ट्रीशीटर लेखराज सिंह को इंकॉउंटर से बचने के लिए बीजेपी नेता को मैसेज करने की सलाह दे रहे हैं । सुनीत कुमार बाता रहे हैं की आपके ऊपर 60 मुकदमे दर्ज हैं आप इंकॉउंटर के लिए बिल्कुल फिट केस हैं और यहां बीजेपी की सरकार होने के कारण बीजेपी नेता के अलावे कोई दूसरा मदद नहीं कर सकता आप अगर कुछ नहीं कर पाए तो आपको और आपके आदमियों का इंकॉउंटर कर दिया जाएगा इससे बचने का रास्ता आपको खुद निकलना होगा ।

इसके अलावा सुनीत कुमार का कहना है कि आपको बचना है तो सिस्टम के हिसाब से चलना होगा । आपको बता दें कि इस ऑडियो क्लिप के वायरल होने के एक दिन पहले ही लेखराज सिंह का इंकॉउंटर करने सुनीत कुमार गए थे लेकिन वो इस ऑडियो में खुद बता रहे हैं कि आपका इंकॉउंटर ना करना पड़े इसलिए मैं हथियार के बिना ही आया था जिस कारण आप और आपके साथी भागने में कामयाब रहे थे ।

इसके बाद जब लेखराज ने सुनीत कुमार से मदद मांगी तो अधिकारी ने कहा कि आप हमारी मजबूरी को समझिये अगर आप वाकई में इंकॉउंटर से बचना चाहते हैं तो आप बीजेपी के जिलाध्यक्ष संजय दुबे और बबीना के बीजेपी विधायक राजीव सिंह को मैसेज करें वही लोग आपको बचा सकते हैं ।

879 total views, 5 views today

Facebook Comments

Leave a Reply