खेल

खबरदार पाक, बर्मिंघम में सीजफायर तोड़ेगा भारत

 आज जैसे हीं दोपहर के तीन बजेंगे, बाजार थम चुके होंगे.. सड़कें आराम कर रही होंगी, लोग अपने  टीवी सेट्स से चिपक कर ऐसे बैठेंगे, मानों अगले आठ घंटों तक हिलेंगे हीं नही| सुपर संडे के साथ आज 'मदर ऑफ ऑल बैटल' भी होनेवाला है| बर्मिंघम में जब भारत और पाकिस्तान की क्रिकेट टीमें  एक दूसरे से भिड़ेंगी तो समय बड़ा टेंशन वाला होगा|
पूरा भारत जहाँ पाकिस्तान की व्हाट लगने का इंतजार कर रहा है, हाँ अगर कश्मीर के पत्थरबाजों की तरह 'कायर' देशद्रोही पाकिस्तान के लिए दुआ करें तो आश्चर्य भी नहीं करना है| आज दिवाली भी मनेगी, होली भी होगी और जरूरत पड़ी तो सीमा पर पाकिस्तानियों का मुँह तोड़नें के लिए हमारे जवान तैयार होंगे|  बर्मिंघम के एजबेस्टन मैदान पर भारत जब सीजफायर तोड़ेगा तो नवाज शरीफ को शिकायत का भी मौका नही मिलेगा|
बर्मिंघम में सैनिकों की शहादत का बदला लेने को विराट की सेना मन बना चुकी है| 'सरफराज कभी धोखा नहीं देता' वाला डायलॉग भी पुराना हो गया है| इंद्र भगवान अगर मेहरबान हुए तो आज पहलवानी की जंग होगी| चैम्पियंस ट्रॉफी के इतिहास में भारत पाकिस्तान से 1-2 से पीछे है, ऐसे में सारे बदला चुकाने का एक सुनहरा मौका है| अब जरा इतिहास के आईनें में देखें तो पाकिस्तान नें भारत को वर्ल्डकप में एक बार भी नहीं हरा पाया है लेकिन चैम्पियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान बीस साबित हुई है|
ये बात अलग है कि तब की टीम, वर्तमान टीम से कई गुना बेहतर थी|  2004 में उस समय के युसुफ योहाना नें भारत के खिलाफ अपनी टीम को सात विकेट की जीत दिलाई थी| 2009 में युसुफ योहाना नें अपना नाम मोहम्मद युसुफ कर लिया था लेकिन रन पीटने के मामले में अब भी वह योहाना हीं थे| उनके 87 रनों और शोएब मलिक के शतक के सहारे पाकिस्तान को फिर भारत पर 54 रनों की जीत मिली| लेकिन 2013 में सारा इतिहास पलट गया और भारत नें बिना युसुफ के पाक टीम कों आठ विकेट से धूल चटा दी| पिच पर रन है, और भारत की बैटिंग मजबूत... तो फिर रनों की बारिश होगी? बात करें भारतीय टीम की तो लाइनअप एकदम तय है|
धवन 2013 की तरह शिखर पर हैं तो रोहित का रहना टीम के हित में है| कोहली का विराट रूप तो हम लगातार देखते हैं और युवी पाजी तो मानों पाकिस्तानियों  की क्लास लेने के लिए हीं खेलते हैं| अगर टीम को एक ओवर में 20 रन बनानें का मुश्किल टास्क भी हो तो हमारे पास दुनिया का सबसे बेस्ट फिनिशर है| जी हाँ हम बात कर रहे हैं, धौनी की.. जिनकी स्टंपिंग की स्पीड देख बिजली भी शरमानें लगती है| छठे नंबर पर 'छोटा पैकेट, बड़ा धमाका' यानि केदार जाधव का खेलना तय है| हार्दिक पंड्या नें अभ्यास मैच में जैसी पारी खेली, उसे हटाने के पहले कप्तान भी 100 बार सोंचेगा| जडेजा या अश्विन में एक स्थान के लिए टक्कर होगी अगर भारत तीन फास्टर के साथ उतरता है, जिसमें एडवांटेज जडेजा के पास है|
इंग्लिश स्विंग कंडीशन में भुवनेश्वर को बेंच देने की गलती कोहली भूल कर भी नहीं करेंगे, तो बुमराह और शमी अगले विकल्प हो सकते हैं| कुल मिलाकर टीम में वह सबकुछ है, जो जीत के लिए जरूरी है| दूसरी तरफ पाकिस्तान, सरफराज अहमद की नई नई कप्तानी में खेल रहा है| पहले बारह खिलाड़ियों में जुनैद खान, फखर जमान और हरीश सोहेल शामिल नहीं है, इसका मतलब ये तीनों आज नहीं खेलेंगे| इमाद वशीम, शादाब खान और 'वंडर ब्वॉय' फहीम अशरफ में से कोई एक बेंच पर आराम फरमायेगा|
अहमद शहजाद, अजहर अली, बाबर आजम, शोएब मलिक, मोहम्मद हफीज, और सरफराज अहमद के रहते पाक बल्लेबाजी में भी दम तो है लेकिन ऐन वक्त पर फ्लॉप होना इनकी पुरानी आदत है| फहीम अशरफ नें बंग्लादेश के खिलाफ जबर्दस्त इनिंग खेलकर अपनी ऑलराउंड योग्यता के सबूत दिए हैं| युवा शादाब खान, इमाद वसीम, हसन अली और अनुभवी आमिर, वहाब रियाज के सामनें सबसे बड़ी चुनौती सितारों से सजी दुनिया की टॉप बैटिंग लाइनअप को रोकनें की होगी, जो पाकिस्तान में टीवी सेट्स टूटने से बचा पायेगा|
बॉर्डर पर तनाव के बीच राजनीतिक रूप से चर्चा शुरू हो गई थी कि पाकिस्तान से मत खेलो| लेकिन खेल का मैदान हीं तो है, जो दुश्मनों को भी एक करता है| मैंच में स्लेजिंग होने की भविष्यवाणी तो कर दी गई है, बस देखना है कि क्या किरण मोरे के सामने 1992 वर्ल्डकप में मियांदाद की तरह आज कोई धोनी के सामनें बंदरों वाली हरकत करेगा| क्या विराट के सामने वहाब रियाज की आक्रामकता काम करेगी?.... इन सबका जवाब बर्मिंघम के एजबेस्टन ग्राउंड पर शाम तीन बजेगा से मिलेगा तो टीवी सेट्स से फेविक्विक लगाकर चिपकना ना भूलें, जनहित में जारी!

691 total views, 9 views today

Facebook Comments

Leave a Reply