फीफा विश्वकप 2018: अंतिम 16 में बड़ी टीमों के सामनें तगड़ी चुनौती, जर्मनी का पहले दौर में बाहर होना दुखद!
खेल

फीफा विश्वकप 2018: अंतिम 16 में बड़ी टीमों के सामनें तगड़ी चुनौती, जर्मनी का पहले दौर में बाहर होना दुखद!

रूस में चल रहे फीफा विश्वकप फुटबॉल का एक चरण पूरा हो चुका है. ग्रुप स्टेज में एक तरफ जहाँ कई उलटफेर हुए, वहीं कई छोटी टीमों नें अपनें प्रदर्शन से दुनिया भर के फुटबॉल प्रेमियों का दिल जीत लिया. आइए नजर डालते हैं ग्रुप स्टेज की कहानी और अंतिम 16 में टीमों की संभावनाओं पर:-

अबतक क्या हुआ:-

14 जून से रूस में शुरू हुई दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी खेल प्रतियोगिता फीफा विश्वकप, दो सप्ताह के घमासान में कई बड़ी टीमों की हालत पतली हुई, तो कई आसानी से जीतती गईं. टूर्नामेंट के सबसे बड़े उलटफेर में गत चैंपियन जर्मनी मैक्सिको और दक्षिण कोरिया से हारकर पहले राउंड में हीं बाहर हो गई.

वहीं पार्टटाइम फुटबॉलरों से भरी 43 लाख की आबादी वाले आइसलैंड जैसी टीम नें मेसी की अर्जेंटीना को ड्रॉ पर रोककर तहलका मचा दिया. हालांकि आइसलैंड अगले दौर में तो नहीं पहुँच पाई, लेकिन अपनें बेहतरीन खेल से फैन्स का दिल जीत लिया. ग्रुप स्टेज में स्पेन और पुर्तगाल जैसी मजबूत टीम, क्रमशः डी-कोस्टा और रोनाल्डो पर कुछ ज्यादा हीं निर्भर दिखी. ग्रुप स्टेज में इन दोनों टीमों को एशियाई देश ईरान की मजबूत चुनौती से दो-चार होना पड़ा.

ग्रुप A से उरूग्वे नें तीनों मैच जीतकर रूस के साथ अगले दौर में जगह बनाई. ग्रुप B से पुर्तगाल और स्पेन कड़ी मशक्कत से अंतिम 16 में पहुँचनें में कामयाब रहें. ग्रुप C में फ्रांस और डेनमार्क नें पेरू और ऑस्ट्रेलिया पर बढ़त बनाते हुए अगले दौर में प्रवेश पा लिया. ग्रुप D में क्रोएशिया जहाँ तीनों ग्रुप मैच जीतकर शान से प्रीक्वार्टर फाइनल में पहुँची, वहीं अर्जेंटीना को प्री-क्वार्टर फाइनल में पहुँचनें के लिए अंतिम मैच में अंतिम क्षणों तक इंतजार करना पड़ा. वो तो भला हो मार्कस रोजो का, जिन्होनें 86वें मिनट में गोल कर न केवल टीम को नाइजीरिया के खिलाफ जीत दिलाई, बल्कि अगले दौर में भी पहुँचाया.

आइसलैंड और नाइजीरिया का खेल प्रशंसनीय रहा. ग्रुप E में कॉटिन्हो के दमदार खेल से ब्राजिल नें अगले दौर के लिए टिकट कटा लिया, ग्रुप से दूसरी टीम रही स्विट्जरलैंड. सर्बिया और कोस्टारिका को रूस से खाली हाथ लौटना पड़ा. ग्रुप ऑफ डेथ 'ग्रुप F' में स्वीडन और मैक्सिको को टिकट मिला अंतिम 16 का. वहीं इसके एवज में मैनुअल न्यूर की जर्मनी का पत्ता कट गया जो सप्ताह की सबसे बुरी खबर रही. ग्रुप G में बेल्जियम और इंग्लैंड नें ट्यूनिशिया और पनामा पर आसानी से जीत दर्ज करते हुए प्रीक्वार्टर फाइनल में प्रवेश किया.

अब मामला था पहले स्थान का, जिसमें बिना हैरी केन के इंग्लिश टीम को बेल्जियम नें 1-0 से हराकर पहला स्थान प्राप्त किया. ग्रुप H में कोलंबिया नें सेनेगल को हराकर नंबर वन रहते अगले राउंड में जगह बनाई. वहीं दूसरे नंबर पर जापान और सेनेगल के बीच जबर्दस्त टक्कर रही. ग्रुप के मैच समाप्त होनें पर दोनों के 4-4 अंक थें, जिसमें गोल डिफेरेंस भी समान था. अंत में पहली बार फेयर प्ले के आधार पर सेनेगल को बाहर होना पड़ा और जापान नें अंतिम 16 का टिकट कटा लिया.

प्रीक्वार्टर फाइनल मुकाबले:-

30 जून को दो जबर्दस्त मुकाबले होनें हैं. जहाँ पहले मैच में फ्रांस की मजबूत चुनौती का सामना करेगी मेसी की अर्जेंटीना.यह मुकाबला दोनों टीमों के दो बेहतरीन स्ट्राइकरों एंटोनियो ग्रीजमैन और लियोन मेसी के बीच होनें वाला है. दूसरे मैच में रोनाल्डो के पुर्तगाल का सामना होगा ग्रुप स्टेज में तीनों मैच जीतनें वाली उरूग्वे से. अगर पहले मैच में अर्जेंटीना फ्रांस को हरा देता है, और दूसरे मैच में पुर्तगाल,उरूग्वे से पार पा लेता है तो अंतिम8 में मेसी और रोनाल्डो की बैटल देखनें को मिल सकती है.

1 जुलाई को 2010 के चैंपियन सर्गियो रामोस की स्पेनिश टीम को मेजबान रूस की मजबूत चुनौती से दो चार होना पड़ेगा. दूसरे मैच में क्रोएशिया का सामना डेनमार्क से होगा. 2 जुलाई को पहले मैच में ब्राजील का टक्कर मैक्सिको से होगा. वहीं दूसरे मैच में बेल्जियम का मैच एशियाई देश जापान से है. 3 जुलाई को प्रीक्वार्टर फाइनल चरण का अंतिम दिन स्वीडन का सामना स्विट्जरलैंड से, और कोलंबिया का मुकाबला इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम से होगा.

राइटर्स कॉर्नर

पहले दो दिन खिताब के प्रबल दावेदार चुनौती पेश करेंगे जो देखना दिलचस्प होगा. अर्जेंटीना के खिलाफ फ्रांस का पलड़ा भारी है, वहीं पुर्तगाल-उरूग्वे टक्कर मनोरंजक होगा. स्पेन रूस के खिलाफ एडवांटेज में रहेगा. अंतिम दिन कोलंबिया और इंग्लैंड के बीच एक और लाजवाब मैच देखनें को मिलेगा. हालांकि पहले दौर में जर्मनी का बाहर होना बहुत हीं दुखद है लेकिन यह खेल का अभिन्न अंग है. यूरोकप में वेल्स की तरह इसबार विश्वकप में आइसलैंड नें सबका दिल जीता है. इस विश्वकप में संभावित विजेता का अनुमान लगाना टेढ़ी खीर है.

Facebook Comments

Leave a Reply