The captains of all 10 teams pose with the World Cup Trophy | दक्षिण अफ्रीका
खेल

विश्लेषण: कल से शुरू हो रहा है क्रिकेट का महाकुंभ, किसी टीम को कम आँकना खतरनाक

विश्वकप 2019 की शुरूआत में केवल एक दिन का समय शेष है। अभ्यास मैच के साथ सभी टीमों नें लगभग अपनी तैयारियों को पुख्ता कर लिया है। अभ्यास मैच के दौरान कमजोर मानी जा रही अफगानिस्तान नें पाकिस्तान को हराकर इस विश्वकप के रोचक होने का संकेत दे दिया है।

इंग्लैंड में हो रहे इस विश्वकप की प्रबल दावेदार टीम इंडिया भी अपनी कमर कस चुकी है। पहले मैच में न्यूजीलैंड के हाथों करारी शिकस्त मिलने के बाद टीम की आँखें खुल गई। और अगले मैच में सारा गुस्सा बांग्लादेश पर उतार दिया जिसमें लोकेश राहुल और महेन्द्र सिंह धोनी के तेज शतक शामिल थे। टीम के लिए परेशानी का सबब बने नंबर चार की गुत्थी सुलझ गई है।

वेस्टइंडीज नें भी न्यूजीलैंड के खिलाफ जिस तरह से ताबड़तोड़ बैटिंग की, बाकी टीमों को सचेत हो जाने की जरूरत है। ऑस्ट्रेलिया ने मेजबान इंग्लैंड को नजदीकी मुकाबले में हराकर बता दिया कि उसे कम आँकने की गलती ना हीं कि जाए तो अच्छा है। हालांकि पाकिस्तान, श्रीलंका जै‌सी टीमों को अपने प्रतिष्ठा के अनुसार खेलने की जरूरत है।

दक्षिण अफ्रीका एक बार फिर खिताब के दावेदार के तौर पर उतरेगी। लेकिन उसे अपनी ऐन वक्त पर चोक करने के टैग को धोना बड़ी चुनौती होगी। बांग्लादेश और अफगानिस्तान की टीमों से सभी बड़ी टीमों को  सावधान हो जाने की जरूरत है। क्योंकि यह टूर्नामेंट राउंड रोबिन फॉर्मेट पर हो रहा है जिसमें सबको एक दूसरे से मैच खेलने हैं। ये दोनों टीमें उलटफेर की उस्ताद मानी जाती हैं।

इस विश्वकप में किसी को भी कमजोर आँकने की गलती कोई भी टीम नहीं करना चाहेगी। कल से आईसीसी विश्वकप का आगाज होगा। पहले मैच में मेजबान इंग्लैंड का सामना दक्षिण अफ्रीका से केनिंगटन ओवल के तेज विकेट पर होगा।

विश्वकप के पहले दिन हीं दो प्रबल दावेदारों की भिड़ंत देखना दर्शकों के लिए आनंददायक होगा। एक तरफ जेसन रॉय, जॉनी बेयरस्टो और जोस बटलर के रूप में इंग्लैंड के पास तूफानी बल्लेबाज मौजूद है वहीं उनको रोकने की जिम्मेदारी साउथ अफ्रीका के कागिसो रबाडा, क्रिस मोरिस और अनुभवी लेग स्पिनर इमरान ताहिर के कंधो पर होगा। साउथ अफ्रीका के पास क्विंटन डिकॉक, डुप्लेसिस और डेविड मिलर जैसे बैट्समैन हैं जो कभी भी मैच का रूख मोड़ सकते हैं। इंग्लैंड के पास जोफरा आर्चर और लियम प्लंकेट के रूप में अच्छी गेंदबाजी है।

मैच नंबर एक- 30 मई 
टीम- इंग्लैंड और साउथ अफ्रीका
मैदान- केनिंगटन ओवल,लंदन
अंपायर- कुमार धर्मसेना,ब्रूस ऑक्सेनफोर्ड, पॉल राइफेल
प्रसारण- स्टार स्पोर्ट्स नेटवर्क और हॉटस्टार पर
समय- भारतीय समयानुसार दोपहर तीन बजे से

विश्वकप के इतिहास में सौरव गांगुली का यह रिकॉर्ड आज तक नहीं तोड़ पाया कोई कप्तान

गांगुली की एक गलती और हाथ में आते-आते रह गया 2003 का विश्वकप

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebook पेज से जुड़े 

Facebook Comments
Ankush M Thakur
Alrounder, A pure Indian, Young Journalist, Sports lover, Sports and political commentator
http://www.thenationfirst.com

Leave a Reply