kahani- meri pyari saloni | कहानी: मेरी प्यारी सलोनी
कहानी

कहानी: मेरी प्यारी सलोनी (वो चिड़िया नहीं जिन्दगी थी मेरी)

मैं बाहर अपने बागान में सो रहा था क्योकि गर्मी बहुत थी और मुझे प्राकृतिक हवाओं में नींद अच्छी आती है सो चला आया सोने बगानों में, इस बार आम और लीची अच्छे लगे थे… देख कर मन गद्द-गद्द हो जाता है अभी सुबह होने में लगभग 2 घंटें बाकिं थे लेकिन मन में अजीब […]

इश्क में वो अंतिम बरसाती रात
कहानी

लघु कथा : इश्क में वो अंतिम बरसाती रात

प्रोमो आखिर क्यों वो मुझे घसिटतें हुए ले जा रही थी मै कुछ समझ नहीं पा रहा था किचेन में अभी भी कुकर की सिटी लग रही थी सी सी कर और मेरा दिल पी पी कर धड़क रहा था की अचानक से एक अधेड़ उम्र औरत की आवाज आई कमरे में बंद कर दे […]

mai meri bibi or wo hindi story | kahani
कहानी

मैं मेरी बीबी और वो

मेरा विश्वास करो सुषमा अभी वहां जाना ठीक नहीं होगा रात काफी हो चुकी है चलो घर चलते हैं । और इसी बीच अचानक से लाइट चली गई वहां सड़क पर खड़ा ऐसा प्रतीत हो रहा था मानो पूरा सड़क अंधेरे की आगोश में सो गई हो । मैंने एक बार फिर सुषमा की ओर […]

हिंदी कहानी: झुमु एक न्याय कथा | jhumu ek nyay katha hindi story
कहानी

कहानी: झुमु एक न्याय कथा

झुमु ओ झुमु कहाँ हो? ये लड़की भी न दिन भर इधर से उधर करती रहती है पता नहीं कब बड़ी होगी 16 साल की हो गई है फिर भी बच्चों जैसी हरकतें करने से बाज नहीं आती है… आने दे तुम्हारे बापू को !!!!!!! झुमु की माँ दुहरी पर खाना बनाते हुए झुमु को […]

कहानी

बीहड़, मैं और लड़की भाग -2

इस कहानी का पहला भाग यहाँ क्लिक कर पढ़ें : बीहड़,मैं और लड़की क्रमशः बारिश जोरों पर थी नैना के बापू अभी आधे रास्तें में ही थे पर बारिश अपनी धुन में ही बरसे जा रही थी बिजली जोरो से कड़क रही थी इस सुनसान रास्तें में बिजली की कड़क से जंगल का राजा भी सहम जाए […]

कहानी

बीहड़,मैं और लड़की

जब मैं रोड से गुजर रहा था अचानक एक परछाईं मेरे सामने से गुजरी मुझे लगा कोई व्यक्ति होगा जिसकी परछाई होगी लेकिन नहीं दूर दूर तक तो कोइ आदमी नजर नहीं आ रहा था वो सुनसान सा रास्ता और मै अकेला डर सा गया था लेकिन फिर भी हिम्मत कर के चले जा रहा […]

कहानी

कहानी : पल भर का सच्चा प्यार

जब वह मेरे करीब आ रहीं थी मेरे अंदर एक अजीब सी झुरझुरी मची हुई थी पता नही क्यो जीवन मे पहली बार किसी लड़की ने मुझे अंदर तक झकझोर कर रख दिया था मैंने तेजी से उसका पीछा करना शुरु कर दिया शाम होने को थी और ठंड के समय मे तो शाम कब […]

कहानी

वीरान जिंदगी और हवस

जीया.. ओ जीया बेटा! खिड़की किवाड़ लगा जल्दी बाहर भयंकर तूफान आ रहा है लग रहा है आज का दिन भी घर मे ही काटना पड़ेगा साला मन तो करता है ये पहाड़ी इलाका छोड़ कही मैदानी भाग में अपना घर बसाए लेकिन मन करने से क्या होता है… और वह पलंग पर लेट जाता […]

कहानी

कहानी: पुत्र रत्न (part - 2)

इस कहानी का पहला भाग पढने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें: पुत्र रत्न (part 1) इस कहानी में अब तक आप ने पढ़ा की कैसे यज्ञ में दी गई आहुति से काम देव प्रकट हुए और वरदान के बदले श्राप दे डाला और भृंग राज फूट फूट कर रोने लगा और अब आगे बेचारा भृंगराज […]

कहानी

नकाबपोश

बाहर बारिश बहुत तेज हो रही थी सभी अपने अपने घरों में दुबके हुए थे ऐसा लग ही नहीं रहा था की इस बारिश  से कोई खुश हो शाम के वही 5-6 बजे होंगे पुरी सड़कें सन्नाटों से घिरा हुआ जैसे लग रहा था ये बारिश सुकून की नहीं बल्कि भय की बरसात हो तभी […]