एमएस धोनी की 10 विशाषताएं जो बनाती है उन्हें दुनिया का सर्वश्रेष्ठ कप्तान

दुनिया के महानतम क्रिकेटरों में से एक और दुनिया के सबसे बेहतरीन कप्तानों में शुमार महेंद्र सिंह धोनी ने इसी साल क्रिकेट को अलविदा कह दिया। लेकिन उनके कारनामों के किस्से आज भी हर क्रिकेट प्रेमी के जुबान पर होते है। उन्होंने अपने 16 साल की करियर में वो सबकुछ हासिल किया जो हर एक क्रिकेटर का सपना होता है। एक महान विकेटकीपर होने के साथ ही उनकी कप्तानी भी लाजवाब रही। धोनी ने अपने करियर में भारत के लिए 538 मैच खेलें, जिनमें उन्होंने 16 शतकों की मदद से 17,266 रन बनाए।

उन्होंने कुल 108 अर्द्धशतकीय पारियां खेली और 359 छक्के लगाएं। विकेटकीपर के तौर पर उन्होंने 829 शिकार किए। धोनी ने अपनी कप्तानी में भारत के झोली में आईसीसी की तीनों ट्रॉफिया डाली और ऐसा करने वाले इकलौते कप्तान बने। उनकी कप्तानी में भारत ने टी20 वर्ल्ड कप (2007), वर्ल्ड कप (2011) और चैंपियंस ट्रॉफी (2013) अपने नाम की थी। आज हम आपको धोनी के करियर की 10 उपलब्धियों के बारे में बताएंगे जो उन्हें क्रिकेट जगत के सर्वश्रेष्ठ कप्तानों की श्रेणी में लाकर खड़ा करते हैं….

1.बतौर कप्तान सबसे ज्यादा मैच

एमएस धोनी ने बतौर कप्तान कुल 332 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं, जो एक वर्ल्ड रिकार्ड है। इस दौरान उन्होंने 11 शतक और 71 अर्द्धशतकों की मदद से कुल 11,207 रन बनाएं। उन्होंने भारत के लिए 200 वनडे, 60 टेस्ट और 72 टी20 मैचों में कप्तानी की है।

2.संयमित कप्तान

एमएस धोनी की खासियत थी कि वो कभी धैर्य नहीं खोते थे। मैच की स्थिति कैसी भी हो वह हर परिस्थिति में संयमित और शांत रहते थे। जिसका फायदा टीम को होता था और विपक्ष टीम या कोई खिलाड़ी हावी नहीं हो पाता था।

3. 5 और 6 नंबर पर बल्लेबाजी कर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज

सौरभ गांगुली की कप्तानी में नंबर 3 पर खेलने वाले धोनी ने अपनी कप्तानी में 5 और 6 नंबर पर बल्लेबाजी करनी शुरु कर दी और वे दुनिया के सबसे बड़े मैच फिनिशर भी बन गए। वनडे क्रिकेट में 5 या 6 नंबर पर बल्लेबाजी कर सबसे ज्यादा रन बनाने वालों की श्रेणी में एमएस धोनी सबसे उपर हैं। उन्होंने 5 और 6 नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए कुल 8324 रन बनाएं जो वर्ल्ड रिकार्ड है।

4.आईसीसी की सभी ट्रॉफिया जीती

एमएस धोनी दुनिया के इकौलते कप्तान हैं जिन्होंने आईसीसी के सभी खिताब अपने नाम किए हैं। वह वनडे वर्ल्ड कप, टी20 वर्ल्ड कप और चैंपियंस ट्रॉफी जीतने वाले एकमात्र कप्तान हैं।
5.गलती स्वीकारने में सबसे आगे

धोनी गलती स्वीकार करने से पीछे नहीं हटते थे। उन्होंने अपनी गलतियों का ठीकरा कभी भी साथी खिलाड़ियों पर नहीं फोड़ा। जिसकी वजह से वह अपने साथी खिलाड़ियों का विश्वास जीतने में कामयाब होते थे।

6. 8 बार आईसीसी वनडे क्रिकेट ऑफ द ईयर में शामिल

महेंद्र सिंह धोनी अपने पूरे करियर में 8 बार आईसीसी वनडे टीम ऑफ द ईयर में शामिल हुए हैं, जो एक वर्ल्ड रिकार्ड है। वह साल साल 2008 से लेकर 2014 तक लगातार आईसीसी वनडे टीम में चुने गए थे और 2006 में भी उन्होंने इस टीम में जगह बनाई थी।

7.बेहतरीन विकेटकीपर

एक चतुर कप्तान और बल्लेबाज के साथ-साथ एमएस धोनी को एक महान विकेटकीपर के तौर पर हमेशा याद किया जाएगा। वे पलक झपकते ही स्टंप करने में माहिर थे। उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में कुल 195 स्टंपिंग्स की जो वर्ल्ड रिकार्ड है।

8. टी20 में भारत के सबसे सफल कप्तान

टी20 क्रिकेट में धोनी के सामने दूर-दूर तक कोई खिलाड़ी नहीं है। उन्होंने कुल 72 टी20 मैचों में कप्तानी की, जिसमें से 41 मैचों में भारत ने शानदार जीत हासिल की।

9. 7 वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक

एमएस धोनी दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज हैं जिन्होंने सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए शतक बनाया है। पाकिस्तान के खिलाफ दिसंबर 2012 में उन्होंने ये शतकीय पारी खेली थी।
10. टेस्ट की एक पारी में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकार्ड

धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट की एक पारी सबसे ज्यादा रन बनाने का भारतीय रिकार्ड बनाया। साल 2009 में श्रीलंका के भारत दौरे के दौरान पहली पारी में 9 विकेट पर 726 रन बनाए थे और पारी घोषित कर दी थी।

यह भी पढ़ें:

अगर गांगुली नही देते ये कुर्बानी तो धोनी नही बन पाते एक महान खिलाड़ी

धोनी के बारे में 7 ऐसी बातें जिसे आप शायद ही जानते हों !

सौरभ गांगुली के 10 कारनामे जिसने बदल कर रख दी भारतीय टीम की किस्मत

किस्सा: जब भारत ने जीता था अपना पहला टेस्ट मैच, 20 सालों तक करना पड़ा था इंतजार

जब कुंबले के लिए अपनी कप्तानी दांव पर लगा बैठे थे गांगुली

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply