विश्व की सबसे लंबी 13668 किलोमीटर मानव श्रृंखला से जुड़ा बिहार

बिहार ने रविवार 21 जनवरी को दहेज़ और बाल विवाह जैसी सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ एक विशाल मानव श्रृंखला बनाकर इससे लड़ने तथा इसको ख़त्म करने का संकल्प लिया . यह मानव श्रृंखला राज्य के विभिन्न सड़को चाहे वो नेशनल हाईवे हो, स्टेट हाईवे या फिर जिला,प्रखंड,पंचायत की कोई पगडण्डी, हर जगह से होकर गुजरी .

दोपहर 12 बजे से 12:30 तक राज्य भर में रही इस मानव श्रृंखला में स्कूली बच्चें,अभिभावक,शिक्षक,अधिकारी,विधायक,मंत्री से लेकर आम नागरिक तक सभी ने अपनी भागेदारी दर्ज करवाई . 13668 किलोमीटर लम्बी इस श्रृंखला में लगभग 4.5 करोड़ लोग शामिल हुए । इस मानव श्रृंखला की यादों को सहेजने के लिए राज्यभर में कुल 40 ड्रोन कैमरों ने फोटो और वीडियोग्राफी की .

और बिहार के लोगों ने आधे घंटे कतार में एक-दूसरे का हाथ थामकर बिहार सरकार के इस सामाजिक अभियान को अपना समर्थन दिया। इस मानव श्रृंखला के कारण 11बजे से 2 बजे तक पूरे राज्य में यातायात व्यस्था नियंत्रित रही। जरूरी सेवाएं जैसे एम्बुलेंस, मीडिया, वीवीआईपी को इससे छूट थी।

पटना का गाँधी मैदान मानव श्रृंखला का मुख्य केंद्र रहा जहाँ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मौजूद थे. उन्होने गुब्बारा छोड़कर इसकी शुरुआत की . वहां मुख्यमंत्री के साथ बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी और बिहार विधानसभा के अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी भी मौजूद थे.
मानव श्रृंखला के बाद मीडिया से बात करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि दहेज़ और बाल विवाह के खिलाफ संकल्प के लिए यह मानव श्रृंखला बनाई गयी . इससे लोगों के मन में एक अलग उत्साह का मौहाल है . बाल विवाह और दहेज़ के खिलाफ पहले से ही कानून बना हुआ है लेकिन यह कुरीतियाँ फैलती जा रही है . इसीलिए हम बापू के जन्मदिन 2 अक्टूबर से ही इस मुहिम को चला रहे हैं और आगे भी जारी रहेगा.

यह भी पढ़ें 

बिहार में खेलों की बदहाली, कब लौटेगी मैदानों पर रौनक ?

एक लड्डू जो बदल देगी आपकी किस्मत ,लाखों में लगती है इसकी बोली

बिहार की राजनीति में आने वाला है भूचाल, जदयू और बीजेपी के ये कद्दावर नेता थाम सकते हैं कांग्रेस का दामन

 

Facebook Comments

Praful Shandilya

praful shandilya is a journalist, columnist and founder of "The Nation First"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *