बजट को लेकर केंद्र सरकार पर बरसे तेजस्वी यादव, कहा- यह बजट नहीं देश की संपत्तियों को बेचने की सेल थी

देश में बीते दिन सोमवार 1 फरवरी को केंद्र सरकार की ओर से बजट पेश किया गया। जिसमें कई राज्यों को नई सौगात मिली। सरकार ने देशहित में किए जा रहे अपने कई फैसलों को सार्वजनिक किया। बताया जा रहा है कि महंगाई की मार झेल रही जनता को इस Budget से कोई भी फायदा नहीं होने वाला है। मिडिल क्लास को सरकार की ओर से किसी भी प्रकार की कोई छूट नहीं मिली है। बजट को लेकर राजनीतिक पार्टियों की ओर से तरह-तरह की प्रतिक्रिया सामने आई है। बिहार की प्रमुख विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने Budget को लेकर केंद्र सरकार पर जोरदार हमला बोला है। उन्होंने कहा है कि ये देश को बेचने वाला Budget है।

बिहार को बजट में कुछ नहीं मिला

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से बजट पेश किए जाने के बाद, तेजस्वी यादव ने मीडिया को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि यह बजट नहीं सरकारी प्रतिष्ठानों और संपत्तियों को बेचने की सेल थी। रेल, रेलवे स्टेशन, एयरपोर्ट, लाल किला, BSNL,LIC बेचने के बाद यह Budget नहीं बल्कि अब बैंक, बंदरगाह, बिजली लाइनें, राष्ट्रीय सड़कें, स्टेडियम, तेल की पाइप लाइन से लेकर वेयरहाउस बेचने का भाजपाई निश्चय है। उन्होंने कहा यह कुछ लोगों को फायदा पहुंचाने वाला बजट है।

मीडिया को संबोधित करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि बजट ने आम आदमी की कमर तोड़ दी है। बिहार को इस बजट से कुछ नहीं मिला। उन्होंने ये भी आरोप लगाया कि इस बजट में बिहार के साथ सौतेला व्यवहार किया गया। यहां के सांसद बजट के दौरान सिर्फ टेबल पीटते रहे. सबको पता है बिहार की दयनीय स्थिति है। उन्होंने कहा कि लालू जी ने रेलवे को चार कारखाने दिए, रेल किराया कम किया था।

ये बजट काफी संतुलित है- नीतीश कुमार

दूसरी ओर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी बजट से काफी संतुष्ट हैं। नीतीश कुमार ने कहा कि ये Budget काफी संतुलित है। कोविड के कारण जितना काम करना पड़ा है, हर क्षेत्र में समस्याओं का सामना करना पड़ा। इसके बावजूद हर चीज को संतुलित करते हुए जो बजट पेश किया गया, उसके लिए सरकार को बधाई देते हैं।

 वहीं, सुशील कुमार मोदी ने भी बजट को लेकर खुशी जताई है। उन्होंने कहा, आने वाले 5 सालों में बिहार को सर्वाधिक 4 लाख 78 हजार 751 करोड़ की राशि प्राप्त होगी। इनमें 4 लाख 24 हजार 926 करोड़ रुपये केन्द्रीय करों में हिस्से के तौर पर होगी, जबकि 53,885 करोड़ रुपये अनुदान के रूप में प्राप्त होगा। इस राशि से बिहार आने वाले दिनों में तेजी से विकास कर सकेगा। 

बंगाल की सियासत में मचेगा तहलका, ममता बनर्जी की टीएमसी से गठबंधन की तैयारी में आरजेडी!

किसान आंदोलन पर राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने दी प्रतिक्रिया, कहा- किसानों को अपमानित नहीं किया जा सकता है

बिहार की राजनीति में मचा हड़कंप, JDU में होगा RLSP का विलय!

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और शरद पवार में ट्विटर वार, पवार ने कहा- मेरे कार्यकाल में रिकार्ड स्तर पर बढ़ी MSP

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply