कृषि कानूनों के विरोध में अकाली दल के बाद अब एक और सहयोगी पार्टी ने छोड़ा बीजेपी का साथ

किसान आंदोलन को लेकर आंदोलन काफी तेज हो गया है। विपक्षी पार्टियां केंद्र सरकार पर हमलावर है और सरकार पर कई तरह के आरोप भी लग रहे हैं। सत्ताधारी एनडीए के कई नेता भी इस कानून के विरोध में किसानों के साथ खड़े हैं। इसी बीच एनडीए गठबंधन में बीजेपी की सहयोगी राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने एनडीए से नाता तोड़ लिया है। पार्टी के संयोजक औऱ नागौर से सांसद हनुमान बेनीवाल ने इन नए कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में लोकहित के मुद्दे को लेकर एनडीए से अलग होने का फैसला कर लिया। बीते दिन शनिवार को उन्होंने इस बात की घोषणा की।

किसान का मान और सम्मान हमारी सबसे बड़ी पूंजी

आरएलपी सांसद हनुमान बेनीवाल ने बीते दिन शनिवार को राजस्थान के अलवर जिले में शाहजहांपुर-खेड़ा सीमा पर किसान आंदोलन के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ‘हम किसी के भी साथ नहीं खड़े होंगे, जो किसानों के खिलाफ हैं।‘ उन्होंने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा, राजस्थान का किसान भी देश के किसान आंदोलन में साथ खड़ा है।

किसान का मान और सम्मान ही हमारी सबसे बड़ी पूंजी है। सांसद बेनीवाल ने अपने अगले ट्वीट में कहा, जब हम किसान की बात करते हैं तो किसान के सम्मान की बात पहले होनी चाहिए। उन्होंने लिखा, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी ने किसान विरोधी बिलों के कारण एनडीए से अलग होने का निर्णय लिया है। कृषि से जुड़े 3 बिल किसान विरोधी हैं।

अकाली दल भी हो चुका है एनडीए से अलग

बता दें, हनुमान बेनीवाल ने 19 दिसंबर को संसद की तीन समितियों के सदस्य पद से त्याग पत्र देने की घोषणा की थी और अपना त्यागपत्र लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को भेजा था। लोकसभा अध्यक्ष को भेजे उस पत्र में उन्होंने संसद की उद्योग संबंधी स्थायी समिति, याचिका समिति और पेट्रोलियम व गैस मंत्रालय की परामर्शदात्री समिति से इस्तीफा देने की बात कही थी।

इससे पहले सितंबर में अकाली दल ने कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन देते हुए एनडीए से नाता तोड़ लिया था। अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्री की पद से इस्तीफा दे दिया था। अकाली दल के बाद अब हनुमान बेनीवाल की पार्टी आरएलपी ने भी एनडीए गठबंधन को गुडबाय बोल दिया है।

जब अटल जी ने कलाम साहब से कहा था ‘पहली बार कुछ मांग रहा हूं मना मत कीजियेगा’

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply