देश का द्वेष

WordPress database error: [Duplicate entry 'content_after_add_post' for key 'option_name']
INSERT INTO wp_options ( option_name, option_value, autoload ) VALUES ( 'content_after_add_post', 'yes', 'no' )

हिन्दुस्तां में क्या यह नया है
मज़हबी रंग रगों में जो घुल सा गया है।
लकीरें सियासी जो खींची गईं हैं,
छुपाते हुए भी यह क्यों दिख रही हैं ?
हुआ ऐसा क्यों है, यह दोष है किसका ?
पीया हर किसी ने, क्यों प्याला यह विष का ?
सवाल जो जन्में, यूँ उनको दबाना,
सही क्यों है फतवों से सर-कलम करवाना ?
सर्वधर्म संभाव की युक्ति अपनी रही है,
फिर भीड़ का फैसला, क्यों सबसे सही है ?
विचारों में मतभेद तो होता रहेगा,
क्या भीतर का इंसां इसी में खोता रहेगा ?
अब द्वेष हमारा यह देश, ना ढो पायेगा,
बिन आँख मूंदे, भविष्य इसका अब सो जाएगा ।।

राजीव शेखर
दानापुर, बिहार

यह भी पढ़ें 

कविता: क्योंकि आज मैं तेरी हिरासत में हूँ

कविता: तुम भी तन्हा मैं भी तन्हा

कहानी: बीहड़,मैं और लड़की

कविता: तेरे प्यार का सुर लेकर संगीत बनाएंगे

ऐसी ही कविता-कहानियों का आनंद लेने  के लिए  हमसे  facebook और twitter पर जुड़े 

Facebook Comments

The Nation First

द नेशन फर्स्ट एक हिंदी न्यूज़ वेबसाइट है जो देश-दुनिया की खबरों के साथ-साथ राजनीति, मनोरंजन, अपराध, खेल, इतिहास, व्यंग्य से जुड़ी रोचक कहानियां परोसता है.

Leave a Reply