अक्टूबर तक चलेगा आंदोलन फिर भी सरकार नहीं मानी तो निकालेंगे देशव्यापी ट्रैक्टर रैली- राकेश टिकैत

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन जारी है। किसान पिछले 69 दिन से दिल्ली की बॉर्डर पर इन कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं। विपक्षी पार्टियां इस मामले को लेकर लगातार केंद्र सरकार पर सवाल उठा रही है। किसानों के आंदोलन स्थल पर भारी संख्या में सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है।

दिल्ली पुलिस ने इलाके को किसे में तब्दील कर दिया है। कई लेयर की बैरिकेडिंग लगाई गई है तो वहीं, कुछ जगहों पर कंटीले तार और सड़क में कील भी लगाए गए हैं। इसी बीच किसान नेता राकेश टिकैत का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा है कि इस तरह से आंदोलन अक्टूबर महीने तक चलेगा, अगर अक्टूबर तक सरकार नहीं मानती है तो किसान देशव्यापी ट्रैक्टर रैली करेंगे।

कानून वापसी नहीं, तो घर वापसी नहीं

बीते दिन मंगलवार को किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, ‘हमने सरकार को अक्टूबर तक का समय दिया है। अगर सरकार हमें नहीं सुनती है तो हम 40 लाख ट्रैक्टरों के साथ देशव्यापी ट्रैक्टर रैली करेंगे।’ इससे पहले राकेश टिकैत ने कहा कि हमारा नारा है, ”कानून वापसी नहीं, तो घर वापसी नहीं।” उन्होंने आगे बताया कि यह आंदोलन जल्द समाप्त नहीं होगा, बल्कि अक्टूबर तक चलेगा। किसान नेताओं ने स्पष्ट कर दिया है कि जबतक पुलिस प्रशासन द्वारा उत्पीड़न बंद नहीं होगा और गिरफ्तार किए गए किसानों की रिहाई नहीं होगी, तब तक सरकार से नए कृषि कानूनों पर कोई बातचीत नहीं होगी।

यह भी पढ़ें: TMC सांसद नुसरत जहां ने बताया, आखिर क्यों जय श्रीराम के नारे से नाराज हुई थी ममता बनर्जी?

आंदोलन में बढ़ सकती है किसानों की संख्या

बता दें, किसान आंदोलन को लगभग पूरे देश से समर्थन मिल रहा है। हरियाणा, पंजाब औऱ यूपी समेत कई राज्यों के किसान इस आंदोलन में हिस्सा ले रहे हैं। कई राज्यों में किसानों के समर्थन में महापंचायत भी हो रही है। बताया जा रहा है कि आने वाले कुछ दिनों में दिल्ली के बॉर्डरों पर आंदोलन कर रहे किसानों की संख्या में काफी बढ़ोत्तरी हो सकती है।

दूसरी ओर किसान नेताओं और सरकार के मंत्रियों के बीच दर्जन भर बैठकें हो चुकी है लेकिन परिणाम अभी भी कोसो दूर नजर आ रहा। विपक्षी पार्टियों ने किसान आंदोलन को खुला समर्थन दे दिया है…ऐसे में स्थिति क्या होगी, यह आने वाला वक्त ही बताएगा।

यह भी पढ़ें:

पेट्रोल की कीमत पर सुब्रमण्यम स्वामी का तंज, रावण की लंका में कीमत 51 रुपये, राम के भारत में कीमत पहुंची 93 रुपये/लीटर

नए कृषि कानूनों पर किसानों में रोष व्याप्त, 6 फरवरी को देश भर में चक्का जाम करेंगे किसान

बजट को लेकर केंद्र सरकार पर बरसे तेजस्वी यादव, कहा- यह बजट नहीं देश की संपत्तियों को बेचने की सेल थी

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *