नए संसद भवन को लेकर ट्विटर वार, केंद्रीय मंत्री ने दिग्विजय सिंह को दिया होमवर्क करने की सलाह

कोरोना वायरस महामारी के बीच नये संसद भवन की इमारत को लेकर राजनीतिक गलियारों में चर्चा तेज हो गई है। विपक्षी पार्टियां कोरोना संकट के बीच नई बिल्डिंग पर पैसा खर्च करने को गलत करार दे रही है। देश की प्रमुख विपक्षी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस इस मुश्किल घड़ी में सरकार के इस कदम की पहले ही आलोचना कर चुकी है। इसी बीच

कांग्रेस के दिग्गज नेता और राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने भी संसद की नई इमारत को लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने लगातार कई ट्वीट करते हुए इस मुद्दे पर सवाल उठाए। जिसपर पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने विपक्ष को आलसी बताते हुए उनके सभी सवालों के जवाब दिए हैं।

‘कांग्रेस के समय भी था नए संसद का प्रस्ताव’

कांग्रेस नेता ने अपने आधिकारिक ट्विटक हैंडल से ट्वीट करते हुए आर्थिक संकट के समय नई बिल्डिंग पर पैसा खर्च करने को गलत करार दिया। जिसपर जवाब देते हुए केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह ने कहा कि ‘अगर दिग्विजय सिंह ने कुछ होमवर्क कर लिया होता और अपने तथ्य चेक कर लिए होते तो उन्हें पता चलता कि नई संसद बिल्डिंग का प्रस्ताव तब भी था जब उनकी पार्टी सत्ता में थी।‘

केंद्रीय मंत्री ने दिग्विजय सिंह के हर सवालों का दिया जवाब

वहीं, एक अन्य ट्वीट में दिग्विजय सिंह ने बिल्डिंग का निर्माण करने वाली कंपनी और निर्माण की पूरी प्रक्रिया को लेकर भी सवाल उठाए। उन्होंने पूछा था कि,‘इसकी चर्चा संसद में क्यों नहीं की गई? आर्किटेक्ट कौन है? उसे कैसे चुना गया है? उसकी साख क्या है? ये पूरा आइडिया सार्वजनिक क्यों नहीं किया गया? प्रधानमंत्री ने बड़े टाउन प्लानर्स की कमेटी सेटअप क्यों नहीं की?’

जिसपर पलटवार करते हुए केंद्रीय उड्यन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि ‘प्रोजेक्ट के लिए दो स्तरीय बिडिंग की प्रक्रिया पूरी की गई है जिसमें विस्तार से सभी चीजें बताई गई हैं। देशभर की 6 प्रतिष्ठित फर्म ने अपने टेक्निकल और फाइनेंशियल बिड जमा कराए जिनमें से 4 ने क्राइटेरिया को पूरा किया।‘

केंद्रीय मंत्री ने आगे लिखा कि एक्सपर्ट्स की एक ज्यूरी ने प्रस्ताव की स्क्रीनिंग भी की है और तमाम मानकों पर खरा उतरने वाली HCP डिजाइन, प्लानिंग और मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड को काम दिया गया है।‘

2022 तक तैयार हो जाएगा नया संसद

बता दें, दिल्ली में संसद की नई इमारत बन रही है, जो 2022 तक तैयार हो जाएगी। 10 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भूमिपूजन कर इसकी नींव रखी। नए संसद भवन में आधुनिक सुख-सुविधाएं होंगी, जो चार मंजिला होगा। इसे बनाने में प्रस्तावित खर्च 971 करोड़ रुपये बताए गए हैं।

असदुद्दीन ओवैसी का केंद्र सरकार पर बड़ा हमला, कहा- किसानों से मुफ्त बिजली का हक छीनना चाहती है सरकार

केजरीवाल मॉडल VS योगी मॉडल पर चर्चा के लिए लखनऊ पहुंचे मनीष सिसोदिया

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply