बढ़ रही हैं इंडिगो की मुश्किलें, 10 फ़ीसदी कर्मचारियों को निकालने का किया ऐलान

कोरोना वैश्विक महामारी में दुनियां भर की अर्थव्यवस्था चौपट हुई है। देश मे भी लगभग हर कंपनी व उधोग इस मंदी की मार से अछूता नहीं है। देश की कंपनियां कारोबारी गतिविधियों की रफ्तार धीमी होने के कारण आर्थिक संकट में फंसती जा रही हैं। इसी मुश्किल के दौर में इंडिगो एयरलाइन्स के कर्मचारियों को भी चिंता की लकीरों ने घेर लिया है।

इंडिगो ने ऐलान किया है कि कोरोना महामारी के चलते पैदा हुए आर्थिक संकट के चलते 10 फीसदी कर्मचारियों को हटाया जाएगा। इस बात की जानकारी कंपनी के सीईओ रोनोजॉय दत्ता ने सोमवार की दी।

गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रही है एयरलाइंस’

कंपनी के सीईओ रणजय दत्ता ने कहा कि कंपनी इस समय गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रही है । कंपनी को अपना कारोबार जारी रखने के लिए कुछ सख्‍त फैसले लेने पड़ रहे हैं। सभी संभावित परिस्थितियों पर विचार करने के बाद यह साफ है कि हमें अपने 10 फीसदी कर्मचारियों को निकालना होगा। इंडिगो के सीईओ ने कहा कि यह पहला मौका है, जब कंपनी को ऐसा मुश्किल कदम उठाना पड़ रहा है. बता दें कि 31 मार्च, 2019 तक कंपनी में कुल 23,531 कर्मचारी थे।

बकौल दत्ता कहते हैं कि “जहां से चीजें वर्तमान में खड़ी हैं, हमारी कंपनी के लिए इस आर्थिक चुनौतियों के बीच से कुछ बलिदान किए बिना उड़ान भरना असंभव है, ताकि हमारे व्यवसाय के संचालन को बनाए रखा जा सके।

इसलिए सावधानी पूर्वक आकलन और सभी संभावित परिदृश्यों की समीक्षा के बाद यह साफ हुआ है कि हमें अपने 10 फीसदी कर्मचारियो को हटाना पड़ेगा।”वह आगे कहते हैं कि जुलाई की शुरुआत में डॉक्टरों और नर्सेज को घरेलु उड़ानों के लिए जो 25 फ़ीसद की छूट दी गई थी वह इस साल के अंत तक रहेगी ।

नीलामी की कगार पर पहुंची यह एयरलाइन, रकम ना अदा करने पर छिन सकता है आधा दर्ज़न विमान

कोरोना ने बिहार में ली एक और डॉक्टर की जान, मरने वालों की संख्या 217 पहुंची

दिल्ली: कांग्रेस पार्टी के दफ़्तर में मिली लाश, पुलिस जांच में जुटी

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े 

Facebook Comments

Leave a Reply