आंदोलन स्थल पर इंटरनेट सेवा बंद! किसान नेताओं ने जताई नाराजगी

किसान आंदोलन को लेकर देश में सियासत चरम पर है। दिल्ली के बॉर्डरों पर किसान पिछले 65 दिनों से डेरा डाले हुए हैं और सरकार से नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग कर रहे हैं। पिछले दिनों आंदोलन स्थल पर पानी और बिजली बंद करने की खबरें सामने आई थी। जिसके बाद दिल्ली सरकार ने भारतीय जनता पार्टी पर जोरदार हमला बोला था।

बीते दिन शुक्रवार को आम आदमी पार्टी के कई नेताओं ने आंदोलन स्थल का दौरा किया था और साथ ही बिजली-पानी का जायजा भी लिया था। जिसके बाद से स्थिति सामान्य बताई जा रही थी, लेकिन इसी बीच खबर है कि आंदोलन स्थल पर इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। जिसे लेकर किसान नेताओं की ओर से लगातार सवाल उठाए जा रहे हैं। किसान नेता राकेश टिकैत, दर्शनपाल और भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने भी सरकार को निशाने पर लिया है।

किसान नेताओं ने जताई आपत्ति

राकेश टिकैत ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा, ‘गाजीपुर बॉर्डर पर इंटरनेट बंद, किसानों की आवाज को रोका नही जा सकता है।‘ वहीं, दूसरी ओर किसान यूनियन के अध्यक्ष नरेश टिकैत ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा, ‘गाजीपुर बॉर्डर पर इंटरनेट बंद कर दिया है सरकार ने , उन्हें लगता है कि इससे आंदोलन को वो कमजोर कर देंगे तो ये उनका वहम है । किसानों की आवाज़ को कुचलने के वो जितना प्रयास करेंगे ये आंदोलन उतना बड़ा होता जाएगा।‘

साथ ही क्रांतिकारी किसान संगठन के नेता दर्शन पाल ने सरकार से अपील की है कि इन इलाकों में इंटरनेट सेवा बहाल की जाए नहीं तो किसान इसके खिलाफ धरना प्रदर्शन करेंगे। उन्होंने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, हम उन जगहों पर इंटरनेट सेवा बहाल करने की मांग करते हैं जहां आंदोलन चल रहा है। अगर ऐसा नहीं होता है तो हम देशभर में इसके खिलाफ धरना प्रदर्शन करेंगे।

हरियाणा के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा बंद

बता दें, यूपी के गाजीपुर बॉर्डर के साथ-साथ हरियाणा के कई इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगी है। हालांकि वॉइस कॉल पर कोई रोक नहीं है। गौरतलब है कि गणतंत्र दिवस के दिन राजधानी दिल्ली में हुई हिंसा बाद से कई इलाकों में इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी गई। हरियाणा सरकार के नए आदेश के मुताबिक जिन इलाकों में सेवा बाधित रहेंगी उनमें अंबाला, यमुनानगर, कुरुक्षेत्र, करनाल, कैथल, पानीपत, हिसार, जींद, रोहतक, भिवाणी, चरखी दादरी, फतेहाबाद, रेवाड़ी और सिरसा शामिल है।

किसान आंदोलन के समर्थन में बिहार में आज मानव श्रृंखला, राजनीतिक पार्टियां आमने-सामने

पंजाब में पाकिस्तान की ओर से भेजे जा रहे हथियार और पैसे, सीएम अमरिंदर सिंह ने केंद्र को किया अलर्ट

किसान आंदोलन में बिजली-पानी बंद करने को लेकर बीजेपी पर बरसे मनीष सिसोदिया

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply