साल के पहले विधानसभा सत्र में राज्यपाल को नहीं मिला बोलने का मौका, ट्विटर पर निकाली भड़ास!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव आने वाले कुछ ही महीनों में होने वाले हैं। जिसे लेकर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है। भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के किले में सेंधमारी करने में लगी हुई है। वहीं, दूसरी ओर ममता बनर्जी प्रदेश में लगातार तीसरी बार सरकार बनाने की कोशिशों में लगी है। बीते दिन पश्चिम बंगाल विधानसभा का सत्र हुआ, जिसमें केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रस्ताव पास हुआ।

दरअसल, देश के हर राज्यों में साल के पहले विधानसभा सत्र को राज्यपाल के द्वारा संबोधित किया जाता रहा है। लेकिन टीएमसी शासित पश्चिम बंगाल में ऐसा देखने को नहीं मिला। जिसे लेकर अब पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने सवाल उठाए है। उन्होंने प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर जोरदार हमला बोला है।

संविधान की लिपि अनिवार्य और अपरिहार्य है

आज शुक्रवार को अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से लगातार कई ट्वीट करते हुए जगदीप धनखड़ ने ममता बनर्जी पर हमला बोला। उन्होंने ममता बनर्जी के भाषण पर भी सवाल उठाए। राज्यपाल ने अपने ट्वीट में कहा, ‘संविधान की लिपि अनिवार्य और अपरिहार्य है। अनुच्छेद 176 के अनुसार ‘प्रत्येक वर्ष के पहले सत्र की शुरुआत में राज्यपाल विधानसभा को संबोधित करेंगे… लेकिन पश्चिम बंगाल विधानसभा में ही एकमात्र ऐसा क्यों नहीं हुआ ?’

राज्यपाल ने ममता बनर्जी द्वारा दिए गए भाषण का वीडियो ट्वीट करते हुए कहा, ‘ममता जी का वीडियो देखकर चिंतित और परेशान हूं। पश्चिम बंगाल पुलिस की अलार्मिंग परिदृश्य! राजनीतिक तटस्थता और राजनीतिक प्रतिबद्धता को बढ़ावा दिया जा रहा है। यह निष्पक्ष चुनाव के लिए सही संकेत नहीं है।‘

इससे पहले भी कई बार आमने-सामने आ चुके हैं राज्यपाल और सीएम

जगदीप धनखड़ ने अपने ट्वीट में आगे लिखा कि “अधिकारियों के नाम, प्रशासन और पुलिस को क्यों घसीटा जा रहा है। क्षेत्रियता या अन्यथा के ऐसे विचारों पर नहीं हो सकता। पहले के चुनावों में पहले से ही कम मानकों के अनुसार उच्च मानकों को स्थापित करने का यह समय है।”

बता दें, अभी तक कई बार पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच गतिरोध देखने को मिल चुका है। पिछले कुछ सालों से दोनों ही ओऱ से कई मौकों पर तरह-तरह की बयानबाजियां भी हुई है। जगदीप धनखड़ प्रदेश की कानून व्यवस्था पर लगातार सवाल उठाते रहे हैं।

किसान आंदोलन में बिजली-पानी बंद करने को लेकर बीजेपी पर बरसे मनीष सिसोदिया

अयोध्या में बन रही मस्जिद पर ओवैसी का बयान, कहा- उसमें नमाज पढ़ना हराम, चंदा देना भी गलत

हरियाणा में बीजेपी को लगा बड़ा झटका, किसानों के समर्थन में 3 बार विधायक रह चुके नेता ने छोड़ी पार्टी

जिस व्यक्ति पर देश का बच्चा-बच्चा हंसता है, उसे प्रधानमंत्री बनाने का सपना देखती है उसकी अम्मा- प्रज्ञा सिंह

गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा पर क्या बोली राजनीतिक पार्टियां?

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply