किसान आंदोलन पर बीजेपी विधायक का विवादित बयान, किसानों को बताया कांग्रेस का एजेंट

किसान आंदोलन को लेकर सियासत तेज हो चली है। विपक्षी पार्टियां इन नए कृषि कानूनों को लेकर लगातार केंद्र सरकार को निशाने पर ले रही है। वहीं, दूसरी ओर सत्ताधारी बीजेपी इन कानूनों को कृषि हित में बता रही है, जबकि किसान इन कानूनों को निरस्त करने की मांग कर रहे हैं। इसी बीच बीजेपी के एक विधायक ने किसान आंदोलन को लेकर बयानबाजी की है और आंदोलन में शामिल किसानों को कांग्रेस का एजेंट बताया है। हालांकि, पहले से ही बीजेपी के कई नेता इस आंदोलन के पीछे विपक्षी पार्टियों का हाथ बता रहे हैं। आंदोलन की शुरुआत से ही बीजेपी के कई नेता लगातार इस तरह की बयानबाजियां कर रहे हैं।

‘दिल्ली बॉर्डर पर उधम करने वाले किसान नहीं हैं, एजेंट हैं’

दरअसल, बीजेपी शासित यूपी के कासगंज जिले में पूर्व प्रधानमंत्री और किसानों के मसीहा कहे जाने वाले चौधरी चरण सिंह की 118वीं जयंती पर बीजेपी विधायक ने दिल्ली के बॉर्डरों पर आंदोलन में बैठे किसानों को कांग्रेस का एजेंट बताया है। चौधरी चरण सिंह की जयंती पर जिला प्रशासन द्वारा किसान मेले का आयोजन किया गया, जहां स्थानीय किसानों को सम्मानित किया गया। इस मेले में डीएम, एसपी के अलावा भारी मात्रा में किसान और जिलाप्रशासनिक अधिकारी मौजूद थे। इस मेले को संबोधित करने के दौरान बीजेपी के स्थानीय विधायक देवेंद्र राजपूत ने किसानों को कांग्रेस का एजेंट बता डाला। उन्होंने अपने संबोधन में कहा, ‘जो किसान दिल्ली बॉर्डर पर उधम कर रहे हैं वह किसान नहीं हैं, एजेंट हैं। कांग्रेस वालों के एजेंट बन रखे हैं।‘

बीजेपी के कई बड़े नेता दे चुके हैं विवादित बयान

इससे पहले केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भी किसान आंदोलन को लेकर टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि ये आंदोलन अब किसानों का नहीं रह गया है, क्योंकि इसमें वामपंथी और माओवादी तत्व शामिल हो गए हैं। साथ ही हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाला ने कहा था कि किसान का नाम आगे करने में बहुत सारे लोग हैं, विदेशी ताकतें हैं, चीन है, पाकिस्तान है, भारत के दुश्मन देश हैं वो सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं।

वहीं, बीजेपी शासित मध्यप्रदेश के कृषि मंत्री कमल पटेल ने भी किसानों को लेकर विवादित बयान दिया था। उन्होंने कहा था कि ये किसान संगठन ‘कुकुरमु्त्तों’ की तरह उग आए हैं। ये किसान नहीं हैं, बल्कि व्हीलर डीलर और एंटी नेशनल हैं। इनके अलावा कई अन्य बीजेपी नेताओं ने भी किसान आंदोलन पर बयानबाजियां की है। किसान संगठनों ने बीजेपी नेताओं के इस तरह की बयानबाजियों पर भी सवाल उठाए थे।

12 जनवरी को बंगाल में अमित शाह की विशाल रैली, मनोज तिवारी ने प्रशांत किशोर को बताया ‘भाड़े का आदमी’

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *