महाराष्ट्र: कांग्रेस के 18 पार्षदों ने थामा एनसीपी का दामन, प्रदेश इकाई में हलचल तेज


देश की प्रमुख विपक्षी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। पार्टी के विधायक, पार्टी कार्यकर्ता यहां तक की पार्टी के पार्षद भी अब दूसरी पार्टियों का दामन थामने लगे हैं। महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी की सरकार है। शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी ने मिलकर उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में सरकार बनाई है। महाराष्ट्र कांग्रेस के कई नेता प्रदेश सरकार में मंत्री हैं, लेकिन पार्टी की प्रदेश इकाई में हलचल तेज हो गई है। खबरों के मुताबिक भिवंडी-निजामपुर नगर निगम में कांग्रेस के 18 पार्षदों ने एनसीपी का दामन थाम लिया। जिसके बाद प्रदेश कांग्रेस महासचिव विनायक राव देशमुख ने इस पर आपत्ति जताई है। उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं को लिखे खुले पत्र में कहा कि यह सावधान हो जाने वाली बात है।

महाराष्ट्र में कांग्रेस कार्यकर्ता बेचैन हैं

महाराष्ट्र कांग्रेस महासचिव ने कहा, यह सावधान हो जाने वाली बात है, नहीं तो स्थिति हाथ से निकल जाएगी। पार्टी को केवल महाराष्ट्र विकास अघाड़ी में घटक होकत औऱ मंत्री पद पाकर संतुष्ट नहीं होना चाहिए। विनायक देशमुख ने कहा शिवसेना ने मुख्यमंत्री पद पाया है लेकिन एनसीपी भी आक्रामक है। उन्होंने कहा, ‘राज्य में कांग्रेस कार्यकर्ता बेचैन हैं। एनसीपी नेताओं ने अपने कार्यकर्ताओं को शिवसेना के साथ तालमेल बिठाने को कहा है और फिर कांग्रेस के पार्षदों को पार्टी में शामिल कर लिया। यह महज संयोग नहीं है।‘
विनायक देशमुख ने सवाल उठाते हुए कहा कि ‘जब यह तय हो गया था कि सहयोगी दलों के बीच दल-बदल को हतोत्साहित किया जाएगा तब फिर कांग्रेस के पार्षद क्यों एनसीपी में शामिल किए गए?’ उन्होंने आगे कहा कि प्रदेश कांग्रेस नेतृत्व को समन्वय समिति में सहयोगी दलों से जवाब मांगना चाहिए, नहीं तो कांग्रेस सत्तारुढ़ गठबंधन में सबसे अधिक नुकसान में रहेगी।

अजीत पवार की मौजूदगी में एनसीपी में शामिल हुए पार्षद

वहीं, दूसरी ओर शिवसेना नेता ने कांग्रेस की स्थानीय इकाई में गुटबाजी को इसका कारण बताया। उन्होंने कहा, वे (कांग्रेस पार्षद) हमारे पास आए थे लेकिन हमने उन्हें जवाब नहीं दिया। अगर एनसीपी उन्हें अपने में शामिल नहीं करती तो वे बीजेपी में चले जाते।

बता दें, महाराष्ट्र के भिवंडी-निजामपुर नगर-निगम में पार्टी के उपमहापौर समेत 18 पार्षद बुधवार को एनसीपी नेता अजीत पवार और जयंत पाटिल के मौजूदगी में एनसीपी में शामिल हो गए। जिसके बाद प्रदेश में सियासत तेज हो गई है और तरह-तरह की बयानबाजियां भी सामने आ रही हैं।

जब अटल जी ने कलाम साहब से कहा था ‘पहली बार कुछ मांग रहा हूं मना मत कीजियेगा’

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply