मनीष सिसोदिया ने स्वीकारी बीजेपी की चुनौती, सरकारी स्कूलों पर बहस के लिए जायेंगे लखनऊ

इधर आम आदमी पार्टी ने औपचारिक रूप से उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में हिस्सा लेने की बात क्या कही, उधर बीजेपी नेताओं की ओर से अभी से ही शीतयुद्ध का ऐलान भी कर दिया गया है। दरअसल, मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिये दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने यह ऐलान किया की आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा सत्र में उनकी पार्टी भी हिस्सा लेगी। मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने बताया की उत्तर प्रदेश की जनता सत्ताधारिओं की नाकामयाबी से काफी परेशान है और अब बदलाव चाहती है ।

आम आदमी पार्टी ने इस चुनावी ऐलान के साथ ही उत्तर प्रदेश में बदलाव एवं विकास के गारंटी की बात भी कही। लेकिन केजरीवाल के इस बयान के बाद मानों उत्तर प्रदेश की राजनितिक गलियारों में अचानक एक बौखलाहट सी मच गयी हो। उत्तर प्रदेश की बीजेपी सरकार और नेताओं ने चुनाव ऐलान होने से पहले ही सोशल मीडिया पर शीतयुद्ध का ऐलान कर दिया। बीजेपी नेताओं की ओर से अरविन्द केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के नेताओं को सरकारी स्कूलों, दिल्ली के विकास मॉडल, शिक्षा एवं उनके किये कामों पर बहस करने के लिए खुला आमंत्रण दिया जाने लगा।

आम आदमी पार्टी को उत्तर प्रदेश सरकार की चुनौती

आपको बता दें की आम आदमी पार्टी की दिल्ली में काफी मजबूत पकड़ है। दिल्ली की जनता ने तमाम पार्टियों के कद्दावर दिग्गज नेताओं को ठुकराते हुए एक नहीं बल्कि कई बार बहुमत के साथ अरविन्द केजरीवाल को अपना मुख्यमंत्री चुना है। दिल्ली की जनता आम आदमी पार्टी के काम से काफी खुश रहती है।

अरविन्द केजरीवाल और उनकी पार्टी का हमेशा से सरकारी स्कूलों और सरकारी अस्पतालों को बेहतर बनाने की जंग ही शायद उन्हें दिल्ली की राजनीति में सर्वश्रेष्ठ बनती है। लेकिन बावजूद इसके बीजेपी नेताओं ने आप को इन्हीं मुद्दों पर चर्चा के लिए चुनौती दी है। इसी के साथ आम आदमी पार्टी ने भी अपने पक्ष से डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को बीजेपी की इस चुनौती को स्वीकार करते हुए सियासी जंग के लिए मैदान में उतारा है। दिल्ली के डेप्युटी सीएम मनीष सिसौदिया ने भी ट्वीट कर यह साफ़ कर दिया है की वे सरकारी स्कूलों पर चर्चा करने को तैयार हैं।

केजरीवाल का बड़ा ऐलान, यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में हिस्सा लेगी आम आदमी पार्टी

मनीष सिसोदिया ने बीजेपी की ओर से दिए गए दिल्ली के सरकारी स्कूलों बनाम उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों की बहस को स्वीकार करते हुए कहा है की ” मैं 22 दिसम्बर को खुली बहस के लिए लखनऊ आ रहा हूं. बता दीजिए कहां, कितने बजे आना है? उत्तर प्रदेश के सरकारी स्कूलों में किया गया आपका काम देखने का निमंत्रण भी मुझे स्वीकार है. आप 10 ऐसे स्कूलों की लिस्ट बता दीजिए जिन्हें BJP सरकार ने 4 साल में सुधारा हो. जहां नतीजे सुधरे हों, बच्चे प्रतियोगी परीक्षाओं में निकले हों। मैं इन स्कूलों में आपका काम देखने आना चाहूंगा।


लेकिन बावजूद इसके बीजेपी नेताओं ने आप को इन्हीं मुद्दों पर चर्चा के लिए चुनौती दी है। इसी के साथ आम आदमी पार्टी ने भी अपने पक्ष से डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया को बीजेपी की इस चुनौती को स्वीकार करते हुए सियासी जंग के लिए मैदान में उतारा है। आम आदमी पार्टी के इस ऐलान के बाद दिसंबर की इस कड़ाके के ठंड में भी उत्तर प्रदेश और दिल्ली की सियासी तापमान काफी गर्म महसूस हो रहा है। देखना काफी दिलचस्प होगा की क्या दिल्ली की सड़कों पर चलने वाली वाली झाड़ू उत्तर प्रदेश की गलियाँ चमका पायेगी ?

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply