कृषि कानून पर पीएम मोदी ने याद दिलाई शरद पवार के कार्यकाल की बातें, NCP ने कहा- लोगों को बेवकूफ बना रहे पीएम

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों को लेकर देश में आंदोलन चरम पर है। विपक्षी पार्टियों की ओर से इस मुद्दे को लगातार उठाया जा रहा है। बीते दिन राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी ने विपक्षी पार्टियों पर जमकर हमला बोला था।

उन्होंने एनसीपी अध्यक्ष और पूर्व कृषि मंत्री शरद पवार पर भी टिप्पणी की थी। पीएम ने राज्यसभा में कृषि सुधारों के प्रति शरद पवार के समर्थन का हवाला दिया था। जिस पर अब एनसीपी की ओर से जबरदस्त प्रतिक्रिया सामने आई है। एनसीपी प्रवक्ता और महाराष्ट्र के कैबिनट मंत्री नवाब मलिक ने कहा है कि पीएम मोदी लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं।

पीएम ने की थी टिप्पणी

महाराष्ट्र सरकार के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्री नवाब मलिक ने कहा, शरद पवार की अगुवाई वाली पार्टी सुधारों के विरुद्ध नहीं है बल्कि उसने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की है। पीएम ने राज्यसभा में शरद पवार के कार्यकाल में कृषि सुधारों के समर्थन पर टिप्पणी करते हुए कहा कि ‘जो पलट रहे हैं, वे शायद उनसे राजी होंगे। भले वे कर पाये या नहीं कर पाये, लेकिन सभी ने इस बात की वकालत की कि ऐसा किया जाना चाहिए।‘

…लोगों को बेवकूफ बना रहे

पीएम के इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए नवाब मलिक ने कहा, पवार ने कृषि मंत्री रहने के समय आदर्श कानून पर सहमति बनाने का प्रयास किया था। लेकिन वर्तमान केंद्र सरकार कृषि कानूनों के समवर्ती सूची में रहने के बावजूद तीन कृषि कानून ले आई।

नवाब मलिक ने कहा, आदर्श कानून और वर्तमान कृषि कानून के बीच बड़ा फर्क है। या तो मोदी साहब यह समझ नहीं रहे हैं या फिर लोगों को बेवकूफ बना रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘राकांपा या कोई अन्य पार्टी सुधारों के खिलाफ नहीं है। लेकिन प्रधानमंत्री या केंद्र के लिए वर्तमान कानूनों के वास्ते दबाव बनाना सही नहीं है, जबकि उसे सर्वसम्मति बनाने की जरूरत है। लोगों को विश्वास में लीजिए और वर्तमान कानूनों में बदलाव कीजिए।‘

यह भी पढ़ें:

बंगाल की सियासत में मचेगा हड़कंप, बीजेपी में शामिल हुए टीएमसी के 2 विधायकों ने की ममता बनर्जी से मुलाकात

पीएम मोदी ने गिनाई ममता सरकार की गलतियां, कहा- बंगाल की जनता जल्द ही उन्हें “रामकार्ड” दिखाएगी

ओवैसी का केंद्र सरकार पर कटाक्ष, दिल्ली के बदले लद्दाख में कीलें लगांई होती तो चीनी सैनिक नहीं घुसे होते

उत्तराखंड आपदा में ऋषभ पंत ने डोनेट की अपनी मैच फीस, कही ये बात!

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply