कोरोना के बढ़ते कहर को लेकर गहलोत सरकार का बड़ा फैसला, राजस्थान में लगा नाइट कर्फ्यू

देश और दुनिया में कोरोना के मामले अभी भी लगातार बढ़ते जा रहे हैं। अभी भी हर रोज लाखों नए मामले सामने आ रहे हैं और हजारों लोगों की लगातार मौत हो रही है। देश के कई राज्यों में कोरोना के मामले में गिरावट दर्ज की गई है लेकिन अभी भी लोगों से लगातार सावधानी बरतने की अपील की जा रही है। कांग्रेस शासित राजस्थान में भी हालात कुछ ऐसे ही हैं। राजस्थान सरकार इस मामले में किसी भी तरह की लापरवाही से बच रही है। ऐसे में प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार ने राजस्थान के ज्यादातर शहरों में 31 दिसंबर को नाइट कर्फ्यू लगाए जाने का ऐलान किया है। साथ ही सरकार ने पटाखों पर भी रोक लगा दी है।

नए साल में नहीं कर पाएंगे पार्टी का आयोजन

अशोक गहलोत सरकार ने राज्य के एक लाख से अधिक आबादी वाले सभी शहरों में 31 दिसंबर की रात नाइट कर्फ्यू लगा दिया है। गृह विभाग की ओर से जारी आदेशानुसार 31 दिसंबर तक रात 8 बजे से 1 जनवरी की सुबह 6 बजे तक यह प्रतिबंध जारी रहेगा। प्रदेश सरकार की आदेश के बाद अब राज्य में नए साल के अवसर पर किसी तरह की पार्टी का आयोजन नहीं कराया जा सकेगा और न ही इस दौरान किसी तरह के पटाखे छोड़े जा सकेंगे। दूसरी ओर गहलोत सरकार ने कोरोना वायरस महामारी के कारण नए साल का जश्न मनाने के लिए पटाखों के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी है। इससे पहले दिवाली में भी राजस्थान की कांग्रेस सरकार ने पटाखों के इस्तेमाल और बिक्री पर रोक लगाया था।

राजस्थान में एक्टिव मामलों की संख्या 1736

राजस्थान में नाइट कर्फ्यू के दौरान आवश्यक सेवाओं के अलावा अन्य तरह की गतिविधियों पर पाबंदी लागू रहेगी। बता दें, इन दिनों राजस्थान में कोरोना के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बुधवार को जारी अपडेट के अनुसार राजस्थान में कोरोना के कुल 3,01,708 मामले सामने आ चुके हैं। जिनमें से 2,87,428 लोग पूरी तरह से रिकवर हो चुके हैं जबिक 2642 लोगों की मौत चुकी है। राजस्थान में मौजूद समय में एक्टिव मामलों की संख्या 1736 हैं।

कर्नाटक में भी लगा नाइट कर्फ्यू

दूसरी ओर कांग्रेस शासित राजस्थान के अलावा बीजेपी शासित कर्नाटक में भी नाइट कर्फ्यू का ऐलान कर दिया गया है। क्रिसमस और नए साल को देखते हुए कर्नाटक की येदियुरप्पा सरकार ने आज 24 दिसंबर की रात से 2 जनवरी तक के लिए प्रदेश में नाइट कर्फ्यू लगाए जाने का ऐलान किया है। जो रात के 11 बजे से अगले दिन की सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा।

किसान आंदोलन पर बीजेपी विधायक का विवादित बयान, किसानों को बताया कांग्रेस का एजेंट

12 जनवरी को बंगाल में अमित शाह की विशाल रैली, मनोज तिवारी ने प्रशांत किशोर को बताया ‘भाड़े का आदमी’

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply