आरजेडी को लगा बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद बीजेपी में शामिल

बिहार की सियासत में हड़कंप जारी है। बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में जीत हासिल कर सरकार बनाने वाली एनडीए गठबंधन अब प्रदेश की विपक्षी पार्टियों में कथित तौर पर सेंधमारी के प्रयास में लगी हुई है। चुनाव से ठीक पहले आरजेडी के आठ में से पांच विधान पार्षद पार्टी छोड़ जदयू में शामिल हो गए थे। इसी बीच बीजेपी ने आरजेडी को जोरदार झटका दे दिया है। बताया जा रहा है कि आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व सांसद सीताराम यादव बीजेपी में शामिल हो गए हैं। उनके साथ-साथ पार्टी के कई अन्य नेता भी बीजेपी में शामिल हो गए है।

माओवादियों और परिवार वादी पार्टियों से लोकतंत्र को ख़तरा

आज बुधवार को बीजेपी बिहार प्रभारी भूपेंद्र यादव की उपस्थिति में सीतराम यादव ने अपने समर्थकों के साथ बीजेपी का दामन थाम लिया। वह सीतामढ़ी लोकसभा क्षेत्र से आरजेडी सांसद रह चुके हैं। उनके अलावा नगीना देवी, पूर्व डिप्टी मेयर संतोष मेहता, वर्तमान डिप्टी मेयर मीरा देवी समेत सैकड़ों की संख्या में नेताओं ने भाजपा का दामन थामा।
इस दौरान मिलन समारोह में बिहार बीजेपी प्रभारी भूपेंद्र यादव ने अन्य राजनीतिक पार्टियों पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को माओवादियों और परिवार वादी पार्टियों से ख़तरा है। बीजेपी नेता ने कहा, लोकतंत्र की रक्षा के लिए बीजेपी में आने वालों का पार्टी स्वागत करेगी। बिहार की जनता का आभार प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि लोगों ने एनडीए पर भरोसा किया है।

यह भी पढ़ें: लाल किले पर झंडा फहराने वाला दीप सिद्धू है बीजेपी का कार्यकर्ता- राकेश टिकैत

बिहार बीजेपी प्रभारी ने अगले 5 साल तक सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार में विकास की बात कही। भूपेंद्र यादव ने कांग्रेस और आरजेडी पर परिवारवाद की रक्षा के लिए भ्रष्टाचार का बढ़ावा देने का आरोप लगाया। इस समारोह में बिहार बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी के साथ-साथ बीजेपी के कई अन्य वरिष्ठ नेता शामिल थे।

आरजेडी ने कही थी जदयू विधायकों से संपर्क की बात

बता दें, बिहार चुनाव 2020 में एनडीए ने 125 सीटों पर कब्जा जमाया, जबकि महागठबंधन 110 सीटों पर सिमट गई। एनडीए में 43 सीटों पर जीत हासिल कर जदयू दूसरे नंबर की पार्टी रही। जबकि बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। बीजेपी ने 74 सीटों पर कब्जा जमाया था। इसके बावजूद भी नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री बनाया गया। बिहार में एनडीए की सरकार बनने के बाद कई बार ऐसी खबरे निकल कर सामने आई थी कि एनडीए गठबंधन के अंदरखाने कुछ ठीक नहीं चल रहा। आरजेडी ने कई जदयू विधायकों से संपर्क की बात भी कही थी। लेकिन अब खेल उल्टा साबित हो रहा है। आरजेडी के ही कई नेता बीजेपी में शामिल हो गए हैं।

गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा पर क्या बोली राजनीतिक पार्टियां?

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *