अयोध्या राम मदिर: कोरोना के कहर बावजूद राम मंदिर के लिए सिर्फ 27 दिनों में 1,500 करोड़ का मिला अनुदान

उत्तर प्रदेश में प्रसिद्ध अयोध्या राम मंदिर के लिए दान इकट्ठा करने के लिए पिछले महीने से एक राष्ट्रव्यापी अभियान चल रहा है। ‘श्री राम जन्मभूमि श्राइन’ समिति के अनुसार इस अभियान के तहत राम मंदिर के लिए अब तक 1,500 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटाई जा चुकी है। यह देशव्यापी दान अभियान 15 जनवरी को शुरू किया गया था। यह अभियान 27 फरवरी तक जारी रहेगा।

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविंद देव गिरी के अनुसार उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार गुरुवार 11 फरवरी तक राम मंदिर के लिए 1,511 करोड़ रुपये का फंड एकत्र किया गया है। यहां तक कि राज्याभिषेक काल में भी यह निधि केवल 27 दिनों में धार्मिक गतिविधियों के लिए उपलब्ध कराई गई है। लगभग डेढ़ लाख विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने इस अभियान में भाग लिया है। राम मंदिर के लिए घर-घर जाकर जाति दान किया जा रहा है। राम मंदिर ट्रस्ट ने भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ खाते खोले हैं।

लगभग डेढ़ लाख विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने इस अभियान में भाग लिया है। अयोध्या राम मंदिर के लिए घर-घर जाकर जाति दान किया जा रहा है। राम मंदिर ट्रस्ट ने भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक और बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ खाते खोले हैं। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के अनुसार, भव्य राम मंदिर का अभियान 27 फरवरी को समाप्त होगा। इसके लिए राम जन्मभूमि तीर्थ समिति द्वारा 10 रुपये, 100 रुपये और 1000 रुपये के कूपन भी करोड़ों की संख्या में छपे हैं ।

जिस भूमि में मंदिर का निर्माण होना है वहां पर लगभग 5 मीटर खुदाई हो चुकी है. साल 1992 में अशोक सिंघल के जरिए आर्किटेक्ट सोमपुरा के साथ एक अनुबंध हुआ था जिसमें अब कुछ सप्लीमेंट्री क्लॉज भी जोड़े गए हैं. राम मंदिर को छोड़कर बाकी हिस्से में जो कंस्ट्रक्शन का काम होना है उसके लिए टाटा कंसल्टेंसी से समझौता हो चुका है.

यह भी पढ़ें:

बिहार में कोरोना टेस्टिंग में चल रहा बड़ा घोटाला, राजद सांसद मनोज झा ने की जाँच की मांग

पढ़िए, बीजेपी में शामिल होने की संभावनाओं पर क्या बोले गुलाम नबी आजाद

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply