तनहाई

कभी-कभी तनहाई में,
  यादों की परछाई में,
तुम बहुत याद आते हो।
 तुम इतने प्यारे हो कि,
आज भी तुम्हीं भाते हो।
   यह तनहाई ही है,
जो तुम्हारी याद दिलाती है,
 वरना व्यस्त दिनचर्या में,
फुर्सत कहाँ मिल पाती है।
       तुम न सही,
   तुम्हारी याद तो है,
तुम्हारे साथ बिताये हुए,
खूबसूरत अहसास तो है।
मैं इसे ही शब्दों में ढालूँगा,
 अपनी तनहाई को भी,
   यादगार बना लूंगा ।
      मैं तेरे लिए,
     अपने लिए,
इस खूबसूरत जहाँ के लिए,
एक कविता छोड़ जाऊँगा।

यह भी पढ़ें:

कविता: सवाल

कविता: गुड़िया

कविता: संवर जाता मैं !

कविता: जलता रहा मैं रात भर

कविता: कतरा कतरा खुन का बह जाने दे

कहानी : पल भर का सच्चा प्यार

कहानी: नकाबपोश

कहानी: वीरान जिंदगी और हवस

ऐसे ही कविता-कहानियों का आनंद आप हमसे facebook और twitter पर जुड़ कर भी ले सकते हैं 

Facebook Comments

Leave a Reply