नए कृषि कानूनों पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक… बनाई कमेटी, जानें कौन-कौन है शामिल?


केंद्र सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों के विरोध में किसान पिछले 47 दिन से दिल्ली के बॉर्डरों पर लगातार प्रदर्शन कर रहे हैं। हालांकि, सुप्रीम कोर्ट ने इस मसले पर लगातार दो दिन सुनवाई कर हल निकालने की ओर कदम बढ़ा दिया है। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई करते हुए केंद्र सरकार को जमकर लताड़ लगाई थी और इस नए कानून पर स्टे लगाने की बात भी कही थी।

जिसके बाद मंगलवार को इस मसले पर सुनवाई करते हुई सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया और फिलहाल इन कानूनों पर रोक लगा दी है। साथ ही इस मसले को सुलझाने के लिए एक कमेटी का गठन भी किया है। कोर्ट ने स्पष्ट किया है कि इस कमेटी में चार लोग होंगे, जो इस मामले की मध्यस्थता नहीं बल्कि समाधान निकालने की कोशिश करेंगे।
रिपोर्ट आने तक कृषि कानूनों पर रोक जारी

सर्वोच्च न्यायालय की ओर से बनाई गई इस कमेटी में भारतीय किसान यूनियन के भूपेंद्र सिंह मान, अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान के प्रमोद जोशी, शेतकारी संगठन के अनिल घनवंत और कृषि वैज्ञानिक अशोक गुलाटी शामिल हैं। कोर्ट ने आश्वस्त किया कि इन चार लोगों की कमेटी अपनी रिपोर्ट सीधे सुप्रीम कोर्ट को सौंपेगी और जब तक कमेटी की रिपोर्ट नहीं आती है तब तक कृषि कानूनों के अमल पर रोक जारी रहेगी।

कोर्ट ने स्पष्ट किया कि कमेटी इस मामले में निर्णायक की भूमिका निभाएगी किसी भी तरह से मध्यस्थ्ता कराने का काम नहीं करेगी। कमेटी इन नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ-साथ इसका समर्थन कर रहे किसानों से भी बात करेगी। कोर्ट ने कहा दोनों ही पक्ष को सुना जाएगा। अगर किसान समस्या का हल चाहते हैं तो उन्हें कमेटी में पेश होना होगा।

कानून वापसी तक किसान नहीं जाएंगे घर

नए कृषि कानूनों को लेकर सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद इस बात के कयास लगाए जा रहे थे कि अब किसान आंदोलन खत्म कर देंगे। लेकिन इसी बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने स्पष्ट किया है कि जब तक कानून वापसी नहीं होगा, तब तक किसानों की घर वापसी नहीं होगी। किसान नेता ने कहा, हम अपनी बात रखेंगे, जो दिक्कत है सब बता देंगे। वहीं, दूसरी ओर सुप्रीम कोर्ट द्वारा कमेटी बनाने के आदेश के बाद अब अकाली दल ने अहम बैठक बुलाई है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में सुखबीर सिंह बादल शामिल होंगे और आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी।

नीतीश के बयान से बिहार की सियासत में उलट-फेर की संभावना तेज, तेजप्रताप बोले- इस साल बना लेंगे सरकार

जीतन राम मांझी ने बीजेपी को बताया साजिश करने वाली पार्टी! नीतीश कुमार की हुई जमकर तारीफ

नीतीश ने बीजेपी पर बोला जोरदार हमला, कैबिनेट विस्तार में देरी के लिए ठहराया जिम्मेदार

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े 

Facebook Comments

Leave a Reply