व्यंग: मरण दिन नाहीं ऊ त ज़बह दिन होवत

उस आदमी की समय की सुरुआत तो तब होती है जब कोई कहे भैया छोटके नानाजी के पत्नी लटकल बा

Read more