तकदीर

लो टकरा हीं गई तकदीर तुम्हारी मेरे तकदीर की लकीरों से तन्हा बैठ कब तक इबादत करोगी इन पत्थर के

Read more