टीएमसी विधायक के इस्तीफे पर बोली ममता बनर्जी, एक-दो लोगों के जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा

WordPress database error: [Duplicate entry 'content_after_add_post' for key 'option_name']
INSERT INTO wp_options ( option_name, option_value, autoload ) VALUES ( 'content_after_add_post', 'yes', 'no' )

अगले साल होने वाले पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों ने अपनी तैयारियां तेज कर दी है। भारतीय जनता पार्टी काफी पहले से ही पश्चिम बंगाल की राजनीति में पांव जमाने की कोशिश कर रही है। ऐसे में सत्ताधारी पार्टी टीएमसी की मुश्किलें बढ़ना वाजिब है। वहीं, दूसरी ओर टीएमसी के बड़े-बड़े नेता पार्टी का दामन छोड़ रहे हैं। पिछले महीने मुकुल ऱॉय ने टीएमसी से इस्तीफा देकर बीजेपी का दामन थाम लिया था और अब ममता बनर्जी के करीबी बताए जा रहे शुभेंदु अधिकारी ने भी एमएलए पद से इस्तीफा दे दिया है।

कयास लगाए जा रहे हैं कि वे जल्द ही बीजेपी की सदस्यता ले सकते हैं। इसी बीच प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बिना नाम लिए ही शुभेंदु अधिकारी को निशाने पर लिया है। उन्होंने एक रैली को संबोधित करते हुए कहा कि टीएमसी एक बरगद के पेड़ की तरह है। एक-दो लोगों के जाने से कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने रैली को संबोधित करते हुए बीजेपी पर भी जमकर हमला बोला।

‘मैं बीजेपी के सामने झुक नहीं सकती’

ममता बनर्जी ने उत्तरी बंगाल के कूचबिहार में एक रैली को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा कि ‘जो अच्छा काम करेंगे, उन्हें टिकट मिलेगा यह पार्टी का निर्णय हैं। कुछ आशंकित हो सकते हैं, इसलिए वे छोड़ने का फैसला कर सकते हैं। बीजेपी ने पहले ही हमें जेल में भेजने की धमकी दी है, इसलिए कुछ लोग डर सकते हैं। अगर उन्होंने मुझे जेल भेज दिया तो मुझे गर्व होगा, लेकिन मैं कभी बीजेपी के सामने झुक नहीं सकती।‘ ममता बनर्जी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने टीएमसी के प्रदेश अध्यक्ष और पार्टी सांसद सुब्रत बख्शी को उकसाया था। सीएम ने कहा, कितने बेशर्म हैं उन्होंने मेरे प्रदेश अध्यक्ष को फोन किया। इनका इतना साहस, वे कितने खतरनाक हैं?

मनीष सिसोदिया ने स्वीकारी बीजेपी की चुनौती, सरकारी स्कूलों पर बहस के लिए जायेंगे लखनऊ

‘झूठे मामलों में फंसा सकती है बंगाल पुलिस’

बताया जा रहा है कि इस्तीफा देने के बाद शुभेंदु अधिकारी टीएमसी के अन्य विधायकों को भी साधने में जुटे हैं। साथ ही उन्होंने इस्तीफे के बाद इस बात की आशंका भी जताई है कि बंगाल पुलिस द्वारा उन्हें झूठे मामलों में फंसाया जा सकता है। शुभेंदु अधिकारी ने इस मामले में केंद्र सरकारी की हस्तक्षेप की मांग करते हुए पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ को एक पत्र भी लिखा है।

केजरीवाल का बड़ा ऐलान, यूपी विधानसभा चुनाव 2022 में हिस्सा लेगी आम आदमी पार्टी

लेटेस्ट खबरों के लिए हमारे facebooktwitterinstagram और youtube से जुड़े

Facebook Comments

Leave a Reply